गर्भवती बिल्ली को घर के बाहर लटका कर मार डाला,मामला दर्ज

cat

तिरुवनंतपुरम : केरल राज्य में क्रूरता की एक ऐसी घटना सामने आई है जिसे सुनकर लोग भौचक्‍के रह गए हैं। पुलिस ने मंगलवार को बताया कि एक गर्भवती बिल्ली को घर के सामने टांग कर उसकी हत्या कर दी गई। यह वीभत्स घटना पल्कुलंगारा के पास एक घर के सामने हुई। जानकारी के मुताबिक घर में कुछ लोग शराब पीकर ताश खेल रहे थे। बिल्ली की लाश रविवार को पल्कुलंगारा इलाके में एक बुजुर्ग के आवास के पीछे पाया गया। बुजुर्ग ने कहा कि उसका इससे कोई लेना-देना नहीं है।

फेसबुक पर भी साझा की जानकारी

जानवरों के लिए फेडरेशन फॉर इंडियन एनिमल प्रोटेक्शन ऑर्गनाइजेशन के लिए अभियान समन्वयक सचिव लता इंदिरा ने स्थानिय पुलिस को इस घटना की जानकारी दी। लता ने बताया कि उसे बिल्ली के बारे में अनके पड़ोसी ने सतर्क किया। पार्वती की शिकायत के आधार पर पुलिस ने पशुओं के खिलाफ क्रूरता के लिए प्राथमिकी दर्ज की है। शिकायतकर्ता ने संदेेह जताते हुए कहा कि घर के सदस्यों ने जब बिल्ली को अंदर टहलते हुए देखा तो उसे बाहर की ओर धक्का दे दिया। बिल्ली को धकेलने के बाद शराब की नशे में धूत लोगाें ने बिल्ली को खंभे पर बांध कर मार डाला। दावा करते हुए लता ने कहा कि मरी हुई बिल्ली की लाश को दफनाने के लिए और भी क्लब के अन्य सदस्य भी पहुंचे थे।

पहले नहीं किया मामला दर्ज

पुलिस ने पहले फेसबुक पोस्ट के आधार पर शिकायत दर्ज नहीं किया था। लेकिन मामला के गंभीर होने के बाद पुलिस को एफआईआर दर्ज करनी पड़ी। पोस्टमार्टम के लिए बिल्ली के शव को मुख्य रोग जांच कार्यालय भेज दिया गया है। मामले की जांच चल रही है और पुलिस अधिक जानकारी जुटाने की कोशिश में लगी है।

कुछ समय पहले कर्नाटक के बेंगलुरु में भी एक ऐसी घटना सामने आई थी जिसमें एक व्यक्ति को हवाई बंदूक से कुत्ते की शूटिंग के लिए दाषी करार दिया गया था। एक पालतू जानवरों की क्लिनिक से मिली जानकारी के अनुसार कुत्ते की शरीर के अंदर तीन छर्रे पाए गए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अध्यापिका के पद से बैशाखी का इस्तीफा

कोलकाता : मिली अल-अमीन कॉलेज की अध्यापिका के पद से बैशाखी बंद्योपाध्याय ने इस्तीफा दे दिया है। गुरुवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को मेल आगे पढ़ें »

33वां मूर्ति देवी पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे कवि डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

नयी दिल्ली : साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष और जाने माने कवि-आलोचक डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को प्रतिष्ठित 33वें मूर्तिदेवी पुरस्कार के लिए चुना गया आगे पढ़ें »

ऊपर