गर्भावस्था और उचित खानपान

वैसे तो हर आयु में उचित पौष्टिक खुराक की आवश्यकता होती है पर गर्भावस्था में महिला को विशेष आहार लेने की आवश्यकता होती है ताकि आने वाले बच्चे को भी सभी पौष्टिक चीजें मिल सकें ताकि उसका विकास ठीक से और महिला में अपने आप में भी कोई कमी न आएं। पौष्टिक उचित आहार में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, मिनरल्स, फैट्स और विटामिन्स सभी निहित होने चाहिए। आइए देखें संपूर्ण गर्भावस्था में स्त्री क्या-क्या खाए ताकि उसे संपूर्ण पौष्टिक आहार मिल सके।
प्रोटीन : मूंगफली, और दालों में प्रोटीन की मात्रा पार्याप्त होती है। इन खाद्य पदार्थों का नियमित सेवन करें ताकि अपने शरीर में और बच्चे के विकास में कोई कमी न रह जाये।
कार्बोहाइड्रेट्स : रोटी, चावल, सभी तरह के अनाज, आलू, पास्ता, फल और सब्जियां। ये सब कार्बोहाइड्रेट्स के भंडार हैं। इन सब खाद्य पदार्थों को नियमित भोजन का अंग बनायें।
कैल्शियम : हम कैल्शियम दूध, चीज, पनीर, दही, पालक, सालमन से उपयुक्त मात्रा में ले सकते हैं। कैल्शियम हड्डियों और दांतों की मजबूती के लिए आवश्यक होता है। इसलिए कैल्शियम की कमी अपने भोजन में न आने दें।
आयरन : आयरन की पर्याप्त मात्रा हम पालक, अनाज, फ गेहूं की ब्रेड जिसमें आयरन मिला हो, आदि से प्राप्त कर सकते हैं।
विटामिन ‘ए’: गाजर, हरी पत्तेदार सब्जियां, शकरकंदी में विटामिन ‘ए’ की मात्रा प्रचुर होती है।
विटामिन ‘सी’: विटामिन सी साइट्रस फ्रूटस, ब्रोकली, टमाटर, फ्रूट जूस जिनमें विटामिन सी मिला हो नियमित लें।
विटामिन ‘बी 6’: चने, सभी प्रकार के अनाज, केले में विटामिन बी की मात्रा प्रचुर होती है।
विटामिन ‘बी12’: और दूध से हम विटामिन बी 12 प्राप्त कर सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल का चुनावी दंगल : 20 सभाएं करेंगे पीएम

शाह की होंगी 50 जनसभाएं कोलकाता : पश्चिम बंगाल में चुनावी दंगल की घोषणा के बाद अब भाजपा कमर कस कर तैयारी में जुट चुकी है। आगे पढ़ें »

बुधवार के 7 प्रभावकारी उपाय एवं टोटके करेंगे हर विघ्न दूर…

कोलकाताः बुधवार के दिन खास तौर पर श्रीगणेश की पूजा-अर्चना करने का विधान है, क्योंकि श्री गणेशजी को विघ्नहर्ता कहा जाता है। वे स्वयं रिद्धि-सिद्धि के दाता आगे पढ़ें »

ऊपर