पेट्रोल डीजल के बढ़ते दाम, आम जनता परेशान

सिलीगुड़ी: पेट्रोल तथा डीजल के बढ़ते दाम आम लोगों की जेब पर डाका डाल रही है। पुरे देश में पेट्रोल के दाम अपने 92 रूपये के आकड़े को पार कर चुकी है। जबकी डीजल भी 85 रुपये प्रति लिटर तक पहुंच गया है। बड़े बड़े मेट्रोपोलिटन शहर में तो पेट्रोल 100 रुपये प्रति लिटर के दर से भी बिक रहा है। पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव से पहले दरिया दिली दिखाते हुए राज्य सरकार ने भी पेट्रोल डीजल के दामों में प्रति लिटर एक रूपये कम करने की घोषणा की है। रविवार आधी रात से इसे क्रियानवित कर दिया गया। आशा जाहिर कि जा रही है कि दस रूपये बढ़ाकर एक रूपये कम करने से आम जनता को काफी हद तक सहूलियत मिलेगी।
कोरोना के प्रकोप से जनता अभी ठीक से निकली भी नहीं है। उपर से 2021-22 के बजट के बाद सिर चढ़कर बोलती महंगाई। कोरोना के चलते सरकार के आय में गिरावट आयी है। ये भी आरोप लगाये जा रहे है कि है पिछले दिनों में हुए घाटे का भूगतान सरकार लोगों पर अतिरिक्त टैक्स का बोझ लादकर कर रही है। केवल पेट्रोल डीजल नहीं बल्कि घरेलू गैस के दाम भी बढ़े है। घरेलू सिलेंडर प्रति रिफील 800 रूपये में बिक रहा है। इतनी महंगाई में साधारण लोगों के लिए पैसा जमाना तो दूर कि बात है दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करना भी मुश्किल हो गया है।
सिलीगुड़ी में पेट्रोल डीजल के आसमान छूते दाम
राज्य सरकार द्वारा एक रूपये कम करने की घोषणा के बाद सोमवार को सिलीगुड़ी के विभिन्न पेट्रोल पंप में पेट्रोल 91.50 रुपये प्रति लिटर की दर से बिका। जबकी डीजल 84.29 रुपये प्रति लिटर की दर से बिक रहा था। पेट्रोल डीजल के आसमान छूते दामों के वजह से अन्य दिनों के मुकाबले सेवक रोड स्थित एक पेट्रोल पंप पर रोजना की तुलना भीड़ कम थी।
महंगाई पर सिलीगुड़ी में जनता की राय
पैदल चलना ही सही विकल्प
जोफिन अली ने कहा कि पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से यातायात किराये में भी बढ़ोतरी हुई है। कही आने जाने से पहले दस बार सोचना पड़ रहा है। पैदल चलने के अलावे आम जनता के पास दूसरा कोई विकल्प नहीं है। घरेलू सिलेंडर के दामों को लेकर उन्होंने कहा कि जितना कम हो सके गृहिणी गैस का इस्तमाल करने को मजबूर है।
रोजमर्रा के बढ़ते दामों पर सरकारी नियंत्रण जरूरी
संपा मजूमदार ने बताया कि तेजी से बढ़ते सामानों के दाम से आम लोगों को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। इसपर सरकार का नियंत्रण होना अति आवश्यक है। महंगाई अलग चिज है। महंगाई की तुलना में लोगों के आय में भी बढ़ोतरी होनी चाहिए। मगर इस ओर किसी का कोई ध्यान नहीं है।
बाजारों में मची लूट
बिजेन्द्र सिंह ने कहा कि केवल पेट्रोल डीजल ही नहीं बल्कि अन्य खाने पीने के सामानों के दाम भी बढ़ रहे है। मार्केट में लूट मची है। उन्होंने कहा कि बाजारों में जिसे जो दिल आ रहा है। एक के बदले चार ले रहा है। सभी एक दूसरे को लूटने में लगे है। इस पर भी सरकार व स्थानीय प्रशासन को ध्यान देखना चाहिए।
छोटे व्यापारियों के लिए बाइक छोड़कर दूसरा कोई बिकल्प नहीं
भूपेन दास ने कहा कि वे छोटे व्यापारी है। लोगों से मिलने के लिए रोज शहर व आसपास के इलाकों के चक्कर लगाने होते है। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से अन्य सामानों के दामों में भी तेजी आयी है। बाइक को छोड़कर लोगों तक पहुचने का उन लोगों के पास दूसरा कोई जरिया नहीं है। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से उन्हें समस्या तो हुई है। लेकिन चाहे जो भी हो जाये। गाड़ी बाइक चलाना तो नहीं छोड़ सकते है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

महिलाओं की बॉडी लैंग्वेज बताती है कि वह आपके साथ सेक्स करना चाहती है या नहीं

कोलकाता : क्या आप महिलाओं की बॉडी लैंग्वेज को पूरी तरह समझते हो ? अगर हां, तो आपको तो यह भी पता चल जाता होगा आगे पढ़ें »

आसिम रियाज और हिमांशी खुराना ने एक-दूसरे का किया Unfollow

मुंबईः आसिम रियाज और हिमांशी खुराना के फैन्‍स के लिए एक बुरी खबर है। 'बिग बॉस 13' से चर्चा में आए इस कपल के रास्‍ते आगे पढ़ें »

ऊपर