अयोध्या मामले की टाइमिंग पर पाक मंत्री ने जताई नाराजगी, कही यह बड़ी बात

paki

नई दिल्ली: अयोध्या मामले में शीर्ष न्यायलय ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को देने का आदेश दिया है। शीर्ष न्यायालय ने कहा है कि केंद्र सरकार को तीन महीने के अंदर ट्रस्ट की स्‍थापना करने के लिए योजना तैयार करना होगा। वहीं दूसरी ओर मुस्लिम पक्ष यानी कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में कहीं ओर 5 अकड़ की जमीन देने को कहा है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने यह फैसला सर्वसम्मति से दिया है। अयोध्या मामले के फैसले पर केवल भारत ही नहीं बल्कि पड़ोसी देश पाकिस्तान की भी निगाहें टिकी हुई थी। पाक के अधिकतर मुख्य अखबारों और टीवी चैनलों पर भी अयोध्या मामले को ही महत्व दी गई है। सोशल मीडिया पर भी राम मंदिर और अयोध्या मामले से संबंधित हैशटैग ट्रेंड हो रहा हैं। इन सब के बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने अयोध्या मामले के फैसले के समय के उपर अपनी नाराजगी व्यक्त की है।

कुरैशी ने कहा – ऐसी असंवेदनशीलता देखकर हताश हूं

अयोध्या मामले के निर्णय पर नाराजगी जाहिर करते हुए कुरैशी ने कहा कि जिस दिन करतारपुर कॉरिडाेर का उद्घाटन किया गया है उसी दिन अयोध्या मामले पर भी फैसला सुनाया जा रहा है। क्या अयोध्या मामले के लिए कुछ दिनों तक इंतजार नहीं किया जा सकता था? करतारपुर कॉरिडाेर का उद्घाटन एक खुशी का मौका है। ऐसे शुभ अवसर पर इस प्रकार की असंवेदनशीलता देखकर मैं काफी हताश हूं।

फैसले से लोगों के ध्यान को भटकाने की कोशिश

अपने बयान में महमूद कुरैशी ने आगे कहा कि सभी को इस खुशी के अवसर में भाग लेना चाहिए था न कि लोगों का ध्यान भटकाने की कोशिश करनी चाहिए थी। अयोध्या मामला काफी संवेदनशील है। ऐसे खुशी के दिन इस फैसले को नहीं लिया जाना चाहिए था। बता दें कि पाक विदेश मंत्री कुरैशी ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के दौरान भी जम्मू कश्मीर की बात छेड़ दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता की हुंकार : नहीं होने देंगे एनआरसी

सागरदिघी (मुर्शिदाबाद) : राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राजनीतिक बहस बढ़ती ही जा रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हुंकार भरते हुए आगे पढ़ें »

डीआरआई का रेड और नोटों की बारिश

कोलकाता : महानगर के डलहौसी इलाके के बेन्टिक स्ट्रीट में बुधवार की दोपहर बाद अचानक एक कामर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। घटना आगे पढ़ें »

ऊपर