मात्र 20 रु में ये वैद्य करता है जड़ी-बूटियों से एमएस धोनी का इलाज

रांची: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अपने घुटनों के दर्द का उपचार एक वैद्य से करवा रहे हैं। इस वैद्य का नाम वंदन सिंह खेरवार है। खेरवार के हवाले से मीडिया रिपोर्टों में बताया गया है कि दवा लेने के लिए खुद धोनी उनके आश्रम आते हैं। यह आश्रम झारखंड की राजधानी रांची से 70 किमी दूर लापुंग के जंगल में स्थित है। वैद्य के मुताबिक, माही के शरीर में कैल्सियम की कमी है। इसके कारण उनके घुटनों में दर्द हो रहा है। उन्होंने बताया कि धोनी अब तक उनकी दवा की चार डोज ले चुके हैं। वैद्य ने बताया कि पिछली बार धोनी 26 जून 2022 को उनके पास आए थे। इससे पहले धोनी के माता-पिता भी इस वैद्य का उपचार ले रहे थे। लगभग चार माह तक धोनी के माता-पिता ने वैद्य की दवा खाई, जिसके बाद उनके घुटनों का दर्द ना के बराबर है। माता-पिता का सफल इलाज के बाद धोनी ने भी इस वैद्य की दवा खानी शुरू की है।
रिपोर्ट्स के अनुसार, खुद धोनी गाड़ी चलाकर दवाई लेने वैद्य के पास जाते हैं। वैद्य ने बताया कि वह उपचार के लिए केवल 20 रुपए फीस लेते हैं और 20 रुपए में दवा देते हैं। करीब एक महीने से धोनी उनकी दवा खा रहे हैं। धोनी हर 4 दिन में दवाएं लेने उनके आश्रम आते हैं। वैद्य ने बताया है कि, ‘यह दवा वह जंगल में मिलने वाली जड़ी-बूटियों से तैयार करते हैं। धोनी जब पहली बार मेरे पास आए तो मैं उन्हें पहचान ही नहीं सका। जब उनके साथ आए लोगों ने जब परिचय कराया, तो पता चला कि ये तो धोनी हैं, जिन्हें उन्होंने टीवी पर बल्ला घुमाते देखा है।’
वैद्य बताते हैं कि, ‘धोनी जब भी यहां दवा लेने आते हैं, तो उनके साथ सेल्फी लेने के लिए लोगों की भीड़ लग जाती है। यही कारण है कि धोनी कई बार यहाँ आने पर गाड़ी से बाहर नहीं निकलते। उन्हें दवा गाड़ी तक पहुंचा दी जाती है। धोनी गाड़ी में बैठकर ही दवा पी लेते हैं। इसके साथ ही पूर्व कप्तान को कई बार गाँव वालों के साथ खुद मोबाइल पकड़कर सेल्फी खिंचवाते हुए भी देखा है।’

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इस उम्र के बाद बच्चे को जरूर सिखाएं ये 5 काम करना, कई मुश्किलें होंगी आसान

कोलकाता : बच्चों की खास देखभाल और बेहतर परवरिश के लिए पैरेंट्स हर मुमकिन कोशिश करते हैं। बावजूद इसके कुछ बच्चे आलसी नेचर के होते आगे पढ़ें »

ऊपर