देखते ही जड़ से उखाड़कर घर ले आये इस पौधे को

कोलकाता : केवड़ा एक सुगंधित फूलों वाला पौधा होता है जो घने जंगलों में उगता है। कई स्थानों पर पर इसे ‘फूलों का राजा’ भी कहा जाता है। केवड़ा को वनस्पति विज्ञान में पेन्डोनस ऑडोर्फि कहते हैं। केवड़ा का पौधा कैंसर, फेफड़ो की जलन, मूत्राशय के रोग, हृदय रोग, कानदर्द, रक्त विकार, सिरदर्द, पेट के दर्द और गैस जैसे समस्याओं से निपटने में मदद करता है।
केवड़ा का इस्तेमाल ज्यादातर आयुर्वेदिक दवाओं में किया जाता है। केवड़ा के फूलों से तेल और केवड़ा जल बनाया जाता है जोकि शरीर और त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होता है। बता दें कि केवड़ा जल का उपयोग खाना बनाने में भी किया जाता है जैसे कि मिठाई, सीरप, कोल्ड ड्रिंक्स आदि।
केवड़ा के फूल अत्यधिक खुशबूदार होते है तथा इसका उपयोग केवड़ा तेल और केवड़ा इत्र बनाने में किया जाता है। केवड़े के फूल के कई उपयोग हैं, जैसे केवड़े का तेल, अर्क, व्यंजनों को सुगंधित करने के लिए।
भारत में यह समुद्र के किनारे वाले क्षेत्र में पाया जाता है। यह ज्यादातर नदी किनारे, नहर खेत और तालाबों के आसपास ऊगता है। चलिए जानते हैं इसके रस के इस्तेमाल से आपको क्या-क्या फायदे हो सकते हैं।
कमर दर्द
केवड़े के ऑयल से प्रतिदिन कमर की मालिश करने से कमर दर्द में राहत मिलती है। केवड़ा का अर्क शरीर के हर तरह के दर्द खासतौर पर जोड़ों के दर्द से राहत देता है। प्रतिदिन केवड़े के ऑयल से मालिश करने से गठिया जैसे रोग भी जड़ से खत्म हो सकते हैं।
पीरियड्स के लिए लाभदायक
केवड़े की जड़ को पानी में घिसकर चीनी के साथ पीने से माहवारी में अधिक रक्त स्राव की कठिनाई दूर हो सकती है। इसके अलावा यह पौधा पीरियड्स में होने वाले ऐंठन से भी छुटकारा दिलाने में मददगार है।
तनाव दूर करने में सहायक
केवड़ा तनाव दूर करने का सबसे प्रभावी व प्राकृतिक तरीका माना जाता है। केवड़ा के पत्तों में एंटी- स्ट्रेस एजेंट पाये जाते हैं जो कि हमारे तनाव व मानसिक असंतुलन को अच्छा करते हैं।
सिरदर्द में आराम
अगर आपका सिर दर्द अक्सर बना रहता है तो आप केवड़ा के मदद से इससे निजात पा सकते हैं। इसके लिए आपको केवड़ा के तेल को लेकर अपने सिर की मालिश करनी है। ऐसा करने पर आपको कुछ ही देर में तेज सिर दर्द से पूरी तरह से राहत मिल जाएगी।
दाग-धब्बे मिटाएं
चेहरे पर पड़े दाग-धब्बे से अगर आप परेशान हो चुकी हैं तो आप केवड़ा जल से अपने दाग-धब्बों को गायब कर सकती हैं। साथ ही इसे लगाने से त्वचा पर चमक भी आती है। आप इसे क्लींजर की तरह से इस्तेमाल कर सकती हैं। ये हर तरह से आपकी स्किन के लिए फायदेमंद साबित होता है।
केवड़े के अन्य फायदे
– केवड़ा का उपयोग औषधि के रूप सिरदर्द और गठियावत में किया जाता है।
– पत्तियों का उपयोग कुष्टरोग, चेचक, खुजली, ल्यूकोडर के उपचार में किया जाता है।
– केवड़े के पानी में सफेद चंदन मिलाकर सूंघने से गर्मी से होने वाला सिर दर्द ठीक होता है।
– खाज-खुजली और त्वचा रोगों में लगाने से लाभ होता है।
– गुलाब जल की तरह केवडा जल भी त्वचा को टोन करता है, यह त्वचा की गहराई से सफाई करता है।
– इसके एंटी ऑक्सीडेंट गुण कैंसर, बुढापे आदि से लड़ने में मदद करते है।
– केवड़े के तेल का प्रयोग सिरदर्द व गठिया के उपचार में किया जाता है।
– इसकी मनमोहक सुगंध मन को शान्ति देती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अगले महीने भी जारी रहेगी कोरोना की नई लहर !

नई दिल्ली : देश में कोरोना की नई लहर से हालात काफी भयावह हो गए हैं। इस बीच मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार के.वी. आगे पढ़ें »

निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिलेगी कोविशील्ड

राज्य सरकारों के लिए 400 की एक डोज नई दिल्ली : कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने बुधवार को राज्य सरकारों और आगे पढ़ें »

ऊपर