अप्रवासी बांग्लादेशी को भारत में बड़ी कंपनी की शुरुआत करते देख खुश होगी : सत्या नडेला

nadela

वॉशिंगटन : नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ देशभर में जारी विरोध प्रदर्शन के बीच अब अमेरिका की टेक जाइंट कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने इसे लेकर अपना पक्ष रखा है। विरोध प्रदर्शनों को बुरा और दुखद बताते हुए नडेला ने कहा कि भारत में अगर कोई अप्रवासी बांग्लादेशी अगली बड़ी कंपनी खोलता है या इन्फोसिस जैसी किसी कंपनी का सीईओ बनता है तो उन्हें खुशी होगी। बता दें कि 11 दिसंबर को पारित सीएए 10 जनवरी से देशभर में प्रभावी हो चुका है।

‘भारत में जो कुछ भी हो रहा है, वह दुखद’

वेबसाइट बजफीड के संपादक बेन स्मिथ ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर सवाल करते हुए माइक्रोसॉफ्ट सीईओ नडेला से उनकी राय जाननी चाही। स्मिथ को जवाब देते हुए नडेला ने कहा, “इस कानून को लेकर भारत में जो कुछ भी हो रहा है वह दुखद है, बुरा है लेकिन कोई अप्रवासी बांग्लादेशी अगर भारत में आकर बड़ी कंपनी शुरू करता है या फिर इन्फोसिस जैसी किसी बड़ी कंपनी का सीईओ बनता है तो मुझे प्रसन्नता होगी।” यह जानकारी स्मिथ ने एक ट्वीट के जरिए साझा की। उन्होंने एक और ट्वीट में कहा- “मैनहैटन में माइक्रोसॉफ्ट के कार्यक्रम में संपादकों से बातचीत के दौरान नडेला ने सीएए पर अपना पक्ष प्रस्तुत किया। अमेरिका में भारतीय मूल के दो बड़े टेक लीडर्स में से एक नडेला हैं। उनके अलावा भारतीय मूल के सुंदर पिचई गूगल का नेतृत्व कर रहे हैं।”

हैदराबाद में पले-बड़े हैं नडेला

मूल रूप से भारत के हैदराबाद के सत्या नडेला ने स्मिथ से बातचीत के दौरान कहा, “जिस देश से मुझे अपनी संस्कृति विरासत में मिली है, मुझे उस पर गर्व है। मुझे हमेशा से यह लगता है कि मैं जिस शहर में पला-बड़ा हूं वह बड़े होने के लिए सबसे बेहतरीन जगह है। हम ईद, क्रिसमस और दिवाली मनाते थे, ये तीनों ही हमारे लिए बड़े त्योहार हैं।”

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की ओर से जारी हुआ बयान

नडेला के इस वक्तव्य के बाद माइक्रोसॉफ्ट इंडिया की ओर से भी एक बयान जारी किया गया है जिसमें नडेला ने लिखा है, “अपनी भारतीय विरासत के साथ, कई संस्कृतियों वाले भारत में रहते हुए और संयुक्त राष्ट्र में अपने अप्रवासी अनुभवों के आधार पर मैं बड़ा हुआ हूं। मुझे उम्मीद है एक ऐसे भारत की, जहां पर समृद्ध स्टार्टअप शुरू करने या किसी मल्टीनेशनल कंपनी को ऊंचाईयों तक ले जाने का सपना एक अप्रावसी भी देख सके। इससे भारतीय समाज और अर्थव्यवस्था को भी लाभ होगा।”

रामचंद्र गुहा ने नडेला को उनके बयान के लिए सराहा

वहीं, सीएए के आलोचकों में से एक भारतीय इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने नडेला के इस बयान के लिए उनकी सराहना की है। उन्होंने कहा, “मुझे इस बात की खुशी है कि सत्या ने वही कहा है जो उन्हें कहना था।” मालूम हो कि पिछले महीने बेंगलुरू में सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान गुहा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सेरेना विलियम्स फिट, छह महीने के ब्रेक के बाद खेलने को तैयार

लेक्सिंगटन (अमेरिका) : अमेरिका की 23 बार की ग्रैंडस्लैम चैम्पियन सेरेना विलियम्स अब पूरी तरह फिट हैं और छह महीने के ब्रेक के बाद टेनिस आगे पढ़ें »

लंबा नहीं चलेगा जसप्रीत बुमराह का करियर : शोएब अख्तर

इस्‍लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर का कहना है कि जसप्रीत बुमराह प्रतिभावान गेंदबाज हैं, लेकिन अपने मुश्किल गेंदबाजी एक्शन के कारण आगे पढ़ें »

ऊपर