असम के CM हिमंत बिस्वा सरमा की मांग : खत्म हो ‘मदरसा’ शब्द का अस्तित्व

असम : असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने देश के सभी स्कूलों में एक समान और ‘सामान्य शिक्षा’ पर जोर देते हुए कहा कि ‘मदरसा’ शब्द का अस्तित्व अब पूरी तरह से समाप्त हो जाना चाहिए। दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, प्रोफेसर और वैज्ञानिक बनने के लिए पढ़ाई करनी चाहिए।

‘जब तक ये शब्द रहेगा बच्चे डॉक्टर-इंजीनियर बनने के बारे में सोच नहीं पाएंगे’

असम के सीएम ने कहा कि जब तक यह शब्द (मदरसा) रहेगा, तब तक बच्चे डॉक्टर और इंजीनियर बनने के बारे में नहीं सोच पाएंगे। अगर आप बच्चों से कहेंगे कि मदरसों में पढ़ने से वे डॉक्टर या इंजीनियर नहीं बनेंगे, तो वे खुद ही जाने से मना कर देंगे।

‘कुरान पढ़ाओ लेकिन घर पर’

बिस्वा सरमा ने आगे ये भी कहा, ‘बच्चों को उनके मानवाधिकारों का उल्लंघन करते हुए मदरसों में भर्ती कराया जाता है। स्कूल में साइंस, इंग्लिश, गणित जैसे विषयों पर जोर होना चाहिए। स्कूलों में सामान्य शिक्षा होनी चाहिए। धार्मिक ग्रंथों को घर पर पढ़ाया जा सकता है, लेकिन स्कूलों में बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, प्रोफेसर और वैज्ञानिक बनने के लिए पढ़ाई करनी चाहिए। इसी आयोजन में उन्होंने दोहराया कि बच्चों को कुरान की शिक्षा भी घर पर ही देनी चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पूर्व जादवपुर में महिला की गला घोट कर हत्या

कोलकाता : महानगर में एक महिला की घर के अंदर गला घोट कर हत्या कर दी गयी। घटना पूर्व जादवपुर थानांतर्गत चितकालिकापुर इलाके में स्थित आगे पढ़ें »

ऊपर