कोरोना काल में लापरवाही पड़ सकती है भारी

 

कोरोना वायरस संक्रमण के बीच मास्क की अनिवार्यता बढ़ी। बेल व्यू अस्पताल के डॉ. राहुल जैन, कहते हैं कि सबसे बेहतर है कि लोग कपड़े के मास्क का इस्तेमाल करें। साथ ही उसको सही तरीके से नियमित तौर पर अच्छे से धुलकर दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, देखा जा रहा है कि इन दिनों बड़े पैमाने पर लोग मॉस्क को सही ढंग से नहीं पहन रहे हैं। इस कारण यह कोरोना वायरस महामारी की जंग में बड़ी लापरवाही साबित हो सकती है। कपड़े के मास्क के ऊपर थ्री लेयर सर्जिकल डिस्पोजेबल मास्क का प्रयोग किया जा सकता है। दिन भर की गतिविधियों के बाद डिस्पोजेबल मॉस्क को फेंक दें व कपड़े के मास्क को धो दें।
दरअसल, यह समझने की आवश्यकता है कि कोरोना वायरस के संक्रमितों के लगातार निकट संपर्क में रह कर उनका इलाज करने वालों और उनकी सेवा करने वाले लोगों के लिए ही एन-95 मास्क अनिवार्य है। बस से लेकर सभी जगहों पर देखा जा रहा है कि लोग मॉस्क का सही ढंग से पालन नहीं कर रहे हैं। इस कारण काफी समस्याएं सामने आ रही हैं।
एक व्यक्ति के मॉस्क नहीं पहनने से अन्य लोगों को दिक्कतें हो सकती हैं। इस बारे में वरिष्ठ फीजिशियन डॉ. एस. के. अग्रवाल कहते हैं कि दरअसल, समय के साथ ही लोगों में कोरोना का खौफ कम होता जा रहा है। अब काफी लोग बिना मास्क के ही बाहर निकल रहे हैं। आवश्यक है कि लोग जागरूक होकर सही ढंग से मॉस्क का इस्तेमाल करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सबसे अधिक मतदाता संख्या वृद्धि में अव्वल द‌क्षिण 24 परगना

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः मतदाताओं की संख्या में वृद्धि के मामले में दक्षिण 24 परगना अव्वल है। आंकड़े यही दर्शाते हैं। चुनाव आयोग के अनुसार जिले में आगे पढ़ें »

जम्मू में 150 मीटर लंबी व 30 फीट गहरी सुरंग का बीएसएफ ने लगाया पता

नई दिल्ली : बीएसएफ को कठुआ (जम्मू-कश्मीर) के पंसार इलाके में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास 150 मीटर लंबी और 30 फीट गहरी सुरंग मिली है। आगे पढ़ें »

ऊपर