अक्टूबर में कब है नवरात्रि? जानें मां दुर्गा की सवारी क्यों इस बार नहीं शुभ

कोलकाता : 6 अक्टूबर से पितृपक्ष समाप्त हो जाएंगे और 7 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो जाएगी। 14 अक्टूबर को महानवमी मनाई जाएगी और 15 अक्टूबर को दशहरे का त्योहार मनाया जाएगा। 14 अक्टूबर तक चलने वाले इन दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा की जाती है। शास्त्रों में मां दुर्गा के नौ रूपों का बखान किया गया है। नवरात्र के दिनों में मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा करने से विशेष पुण्य मिलता है। मान्यता है कि मां दुर्गा अपने भक्तों के हर कष्ट हर लेती हैं। ज्योतिषी प्रवीण मिश्रा से जानते हैं कि इस बार मां दुर्गा किस वाहन पर सवार होकर आएंगी और इस वाहन का क्या संकेत होता है।
क्या होगी मां दुर्गा की सवारी – नवरात्रि में इस बार मां दुर्गा पालकी पर सवार होकर आएंगी। यानी इस बार मां दुर्गा का वाहन डोली होगा। शास्त्रों में ऐसा वर्णन मिलता है कि नवरात्रि का आरंभ अगर सोमवार और रविवार से हो रहा हो तो माता हाथी पर सवार होकर आती हैं। नवरात्रि की शुरुआत शनिवार और मंगलवार से हो तो मां दुर्गा का आगमन घोड़े पर होता है। नवरात्रि की शुरुआत जब बुधवार को होती है तो मां दुर्गा का वाहन नाव होता है। अगर नवरात्रि की शुरुआत गुरुवार और शुक्रवार को होती है तो मां दुर्गा डोली पर सवार होकर आती हैं। इस बार नवरात्रि की शुरुआत गुरुवार से हो रही है तो मां दुर्गा डोली पर सवार होकर आएंगी।
मां दुर्गा की सवारी का महत्व- मां दुर्गा के हर वाहन का अपना अलग-अलग महत्व होता है। शास्त्रों में ऐसा वर्णन है कि जब मां दुर्गा डोली पर सवार होकर आती हैं राजनैतिक उथल-पुथल की स्थिति बनती है। ये प्रभाव सिर्फ भारत नहीं बल्कि पूरी दुनिया पर पड़ सकता है। ये प्राकृतिक आपदाएं आने का भी संकेत होता है। महामारी फैलती है और लोगों के बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है। माता का डोली पर आना बहुत ज्यादा शुभ संकेत नहीं माना जाता है लेकिन जो लोग सच्चे मन से मां दुर्गा की आराधना करते हैं उन पर ये अशुभ प्रभाव नहीं पड़ता है। नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना से मां की कृपा भक्तों पर बनी रहती है।
नवरात्रि में घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त
नवरात्रि के प्रथम दिन घटस्थापना के साथ नौ दिन के लिए देवी मां का पूजन शुरू किया जाता है। घटस्थापना के लिए शुभ मुहूर्त का विशेष रूप से ध्यान रखें। 7 अक्टूबर को घटस्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 17 मिनट से सुबह 7 बजकर 7 मिनट तक का है। इसी समय घटस्थापना करने से नवरात्रि फलदायी होते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

नौकरी के लिए दार्जिलिंग से बुलाई गई थीं युवतियां, उसके बाद…

मुरादाबादः दो महिलाओं समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर सिविल लाइंस पुलिस ने सेक्स रैकेट का खुलासा किया है। यह रैकेट निजी बीमा कंपनी की आगे पढ़ें »

ऊपर