सुपारी के इस टोटके से मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न, कभी नहीं खाली होगी तिजोरी

नई दिल्ली : सुपारी का इस्तेमाल खाने के अलावा पूजा-पाठ में भी किया जाता है। पूजा में इस्तेमाल की जाने वाली सुपारी साइज में छोटी होती है। हालांकि ये केवल देखने में छोटी होती है, लेकिन इसके कई चमत्कारिक लाभ भी हैं। दरअसल सुपारी को गौरी और गणेश का स्वरूप माना जाता है इसलिए इससे कई प्रकार के टोटके भी किए जाते हैं। मान्यता है कि सुपरी के टोटके से धन लाभ होता है। ऐसे में जानते हैं कि सुपारी के टोटके किस प्रकार किए जाते हैं।
-सुपारी अखंडित होती है, इसलिए इसे गौरी-गणेश का स्वरुप मानकर पूजा के दौरान भगवान को चढ़ाया जाता है। शुक्रवार या किसी पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी को सुपारी चढ़ाएं। इसके बाद इसके ऊपर लाल धागा लपेटकर तिजोरी में रखें ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है जिससे धन का नुकासान नहीं होता है।
-अगर कोई काम नहीं बन रहा है या इसमें बाधा आ रही है तो ऐसे में किसी महीने की गणेश चौठ के दिन गणेशजी को सुपारी और लौंग अर्पित करें। जब भी काम पर जाएं इस सुपारी और लौंग को पास रखें। ऐसा करने से काम में सफलता मिलेगी।
-सुबह स्नान के बाद घर या मंदिर में भगवान गणेश के सामने पान के पत्ते पर अक्षत, सिंदूर और घी मिलाकर स्वस्तिक बनाएं। अब इस पर सुपारी रखकर कलावे से लपेट दें। इसके बाद गणेश को अर्पित करने के बाद इसे धन वाले स्थान पर रखें। ऐसा करने के पैसों की तंगी नहीं रहती है।
-शनिवार के दिन पीपल के नीचे एक सुपारी और एक सिक्का रख दें। अगले दिन वहां जाकर पीपल के प्रणाम करने के बाद इसका पत्त लेकर उसमें सुपारी और सिक्का को लपेटकर तिजोरी या गल्ले में रख दें। इसके व्यापार में वृद्धि होगी। साथ ही तिजोरी भी खाली नहीं होगी।
-जब गुरुवार के दिन पुष्य नक्षत्र का योग बने उस दिन स्नान के बाद एक रुमाल में सुपारी, एक हल्दी की गांठ और नारियल का गोला बांध लें। इसके बाद इसे रोज धूप-दीप दिखाएं। ऐसा करने से धन लाभ का योग बनता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पानीहाटी में तृणमूल कार्यालय पर बमबारी

पानीहाटी : खड़दह थाना अंतर्गत पानीहाटी के एंजेल नगर इलाके में कुछ समाज विरोधियों ने पहले बमबारी की। इसके बाद बीटी रोड मातारंगी भवन नामक आगे पढ़ें »

ऊपर