शहीद के परिवार को 27 साल बाद मिली छत,हथेली पर कराया गृह प्रवेश

martyr wife home entry

इंदौर : स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर इंदौर के युवाओं ने शहीद के परिवार को 27 साल बाद पक्का घर बनवाकर उपहार में दिया। इसके साथ ही गांव के युवाओं ने शहीद की पत्नी को अपनी हथेलियों पर चलवा कर घर में प्रवेश करवाया। मालूम हो कि सीमा सुरक्षा बल के जवान मोहन सिंह सुनेर असम में पोस्टिंग के दौरान 31 दिसंबर 1992 को शहीद हो गए थे। जब वे शहीद हुए उस समय उनकी पत्नी गर्भवती थीं और उनका एक तीन साल का बेटा भी था। उनका परिवार अब तक झोंपड़ी में गुजर-बसर कर रहा था। गांव के कुछ युवाओं ने उन्हें पक्का मकान देने के लिए एक अभियान चलाया जिसके तहत 11 लाख रुपये जमा हो गए।

कड़ी मेहनत कर बड़ा किया बच्चों को

मोहनलाल की पत्नी राजूबाई ने बताया कि पति जब शहीद हुए, उस वक्त बड़ा बेटा 3 साल का था। वे 4 महीने की गर्भवती थीं। पति की शहादत के बाद उन्होंने दोनों बच्चों को पालने के लिए कड़ी मेहनत की और झोपड़ी में रहते हुए मजदूरी कर बच्चों को बड़ा किया। सुनेर का बड़ा बेटा राजेश बीएसएफ में कार्यरत है। छोटा बेटा राकेश मां के साथ बेटमा में रहता है।

73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उपहार दिया

मध्यप्रदेश के देपालपुर के पीरपीपलिया गांव के युवाओं और गांव वालों ने शहीद मोहनलाल के परिवार को 10 लाख रुपए का मकान तैयार कर 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उपहार में दिया। शहीद के परिवार की हालत देखकर क्षेत्र के कुछ युवाओं ने ‘वन चेक-वन साइन’ नाम से अभियान शुरू किया। इस अभियान के तहत मकान बनाने के लिए 11 लाख रुपये इकट्ठा किए गए, जिसमे से दस लाख रुपए में शहीद मोहन का घर तैयार किया गया और बाकी बचे हुए एक लाख रुपये से मोहन की प्रतिमा को तैयार किया गया है।

सरकार से कोई मदद नहीं मिली

अभियान के संयोजक विशाल राठी का कहना है कि मोहनलाल के परिवार को सरकार से कोई मदद नहीं मिली। उनके सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया था। सुनेर की पत्नी को अपने दो बेटों को पालना मुश्किल हो रहा था। उन्होंने इस बात का खुलासा ‌किया कि शहीद मोहनलाल ने जिस सरकारी स्कूल में पढ़ाई की थी, उसका नाम भी मोहनलाल के नाम पर करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर