दिल्ली हिंसा में कई लोगों के कागजात जलकर खाक, मुआवजे को लेकर असमंजस की स्थिति

delhiss

नई दिल्ली : उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा से पीड़ित कई लोगों के घर समेत दस्तावेज भी बर्बाद हो जाने से उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि वे दिल्ली सरकार से मुआवजे की मांग किस आधार पर करें। हिंसा से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में से एक मुस्तफाबाद में अल-हिंद अस्पताल के एक राहत शिविर में ऐसे कई परिवारों के मन में यही प्रश्न उठ रहा है। हालांकि, एक अधिकारी ने कहा कि सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि मुआवजा देने की प्रक्रिया सरल हो सके ताकि किसी भी पीड़ित को मुआवजा पाने में कोई समस्या न हो।

घर के साथ जले ये दस्तावेज

राहत शिविर में शरण लेने आए एक शरणार्थी के अनुसार, दंगाइयों ने शिव विहार स्थित उनके घर पर हमला किया। उसने ने कहा कि ‘उन्होंने हमारा घर जला दिया और उसके साथ मतदाता पहचान पत्र, आधार और पैन कार्ड जैसे दस्तावेज भी नष्ट हो गए। दिल्ली सरकार ने मुआवजे की घोषणा की है, लेकिन दस्तावेजों के बिना मुआवजा कैसे मिलेगा इस पर असमंजस की स्थिति है।’ अल-हिंद अस्पताल के राहत शिविर में ही 25 महीला ने बताया कि पिछले मंगलवार को दंगाइयों ने हमला किया लेकिन वह अपनी तीन बेटियों के साथ भागने में कामयाब रही। आयत ने कहा कि शिव विहार स्थित उसके किराए के घर के साथ दस्तावेज भी आग में जलकर खाक हो गए।

राज्य सरकार द्वारा 25,000 रुपए सहायता राशि घोषणा

बता दें कि पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में हुई हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को दस लाख रुपए मुआवजा देने की घोषणा की थी। साथ ही हिंसा में जिनके घर जल गए थे उन्हें राज्य सरकार ने 25,000 रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीएम व कैलाश के खिलाफ तृणमूल ने चुनाव आयोग में की शिकायत

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः तृणमूल के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा है कि चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। ऐसे में प्रधानमंत्री का आगे पढ़ें »

टर्निंग ट्रैक पर फाइनल का टिकट कटाने उतरेगा भारत

टीम इंडिया को सिर्फ एक ड्रॉ की जरूरत, इंग्लैंड रेस से बाहर अहमदाबाद : पिछले दो मैचों में दबदबा बनाने में सफल रहा भारत गुरुवार से आगे पढ़ें »

ऊपर