राहुल गांधी और केजरीवाल समेत कई मुख्यमं‌त्रियों ने किया अयोध्या फैसले का स्वागत

Rahul Gandhi

नई दिल्ली : अयोध्या जमीन मामले में शीर्ष न्यायालय के एेतिहासिक फैसले के बाद विपक्ष दल के नेताओं ने अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं पेश की है। कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उच्च्तम न्यायालय ने अयोध्या मुद्दे पर अपना फैसला सुना दिया है। मैं शीर्ष न्यायालय के फैसले का स्वागत करता हूं। उन्होंने ट्वीट करके लिखा कि हम सभी को न्यायालय के निर्णय का सम्मान करना चाहिए। राहुल ने लोगों से शांति और साैहार्द बरतने की अपील की है। न्यायालय के फैसले का आदर करते हुए हम सभी को परस्पर सद्भाव बनाए रखा जाना चाहिए। इस वक्त सभी भारतीयों के बीच जो बन्धुत्व,विश्वास और प्रेम है वह कायम रहना चाहिए।

केजरीवाल ने कहा- कई दशकों से चलता आ रहा विवाद हुआ खत्म

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी न्यायालय के फैसले के बाद अपना बयान पेश किया है। उन्होंने कहा कि सारे पक्षों की दलीलें सुनने के बाद ही शीर्ष न्यायालय की पीठ के पांच जजों ने एकमत से आज अपना फैसला सुनाया है। इस फैसले से कई दशकों से चलता आ रहा विवाद समाप्त हो चुका है। हम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं। मेरी लोगाें से विनती है कि वे शांति और सौहार्द बनाए रखें।

अन्य मुख्यमं‌त्रियाें ने भी फैसले को सराहा

मालूम हो कि अयोध्या मामले के फैसले को अन्य मुख्यमंत्रियों ने भी सराहा है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का सबको सम्मान करना चाहिए और शांति सद्भाव बनाए रखना चाहिए। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रदेश के अंदर भी और देश में भी शांति और सद्भाव बना रहेगा। गहलोत ने कहा कि कुछ असामाजिक तत्व अगर गलत करने की कोशिश करेंगे तो राजस्थान में हमने आदेश दे रखे हैं कि इसे कड़ाई से निपटा जाए। चाहे वो कोई भी जाति का हो, बिरादरी का हो। मेरी राय में शांति और सद्भाव के नाम पर यह फैसला लागू होगा। वहीं दूसरी ओर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी अयोध्या पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय का स्वागत करते हुए लोगों से फैसले को स्वीकार करने तथा इसका सम्मान करने की अपील की। कुमार ने लोगों से यह भी आग्रह किया कि वे एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान कर समाज में सौहार्द बनाए रखें। उन्होंने कहा कि मेरी लोगों से अपील है कि मामले में कोई विवाद खड़ा न करें और समाज में सौहार्द बनाए रखें।

वामदल ने भी किया समर्थन

वामदलों ने शनिवार को अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले से वर्षों पुराने विवाद का अंत होने का हवाला देते हुये सभी पक्षों से इसे स्वीकार कर देश में अमन चैन कायम रखने की अपील की है। पार्टी ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के पांच न्यायाधीशों की पीठ ने इस विवाद को खत्म करने की स्वागत योग्य पहल की है ताकि इस मामले को ढाल बनाकर व्यापक पैमाने पर हिंसा फैलाने वाली ताकतें जनधन की हानि न कर सकें। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने अयोध्या जमीन विवाद मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले को लेकर अपनी प्रतिक्रिया में लोगों से संयम बनाए रखने और राज्य का सद्भाव नहीं बिगाड़ने की अपील की। उन्होंने कहा कि हम कोई भी अप्रिय घटना नहीं होने देंगे और पुलिस भी पूरी तरह तैनात हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मरकज में तबलीगी जमात में शामिल हुए बंगाल के 71 लोगों की पहचान कर ली गई है : ममता 

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  ने बुधवार को बताया कि कुल 71 लोग  बंगाल से निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के लिए आगे पढ़ें »

ममता ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, मांगी 25 हजार करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बुधवार को पत्र लिखकर 25,000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मांगी है आगे पढ़ें »

ऊपर