हर मौसम में लाजवाब स्वाद देता है मक्का

अनाजों में मक्का एक ऐसा अनाज है जिसका हर मौसम में अपना अलग व लाजवाब स्वाद है। बरसात के मौसम में भुने हुए भुट्टे, सर्दियों में मक्के की रोटी, सरसों का साग वाह भई वाह! मक्के के दाने यानी पॉपकॉर्न का स्वाद तो 12 मास लिया जाता है।
स्वाद व पौष्टिकता के साथ यह औषधीय गुणों से भी भरपूर है। इसके सेवन से गर्मी, बादी, कफ, पित्त आदि का नाश होता है। इसके प्रयोग से बल, मांस एवं रक्त में बढ़ोत्तरी होती है।
मक्का में विटामिन व प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होते हैं इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन ई, कैल्शियम इत्यादि पाए जाते हैं।
– कच्चे भुट्टे को भूनकर खाने से दांत व दाढ़ मजबूत होते हैं।
– गर्मी के कारण सिरदर्द में इसकी पत्तियों को अच्छी तरह पीस कर दर्द वाले स्थान पर लगाने से आराम मिलता है।
– मक्के के आटे की रोटी को दूध व चीनी के साथ खाने से शारीरिक क्षमता में वृद्धि होती है।
– वर्षा ऋतु में नित्य भुट्टा खाने से रक्त में वृद्धि होती है व आमाशय को बल मिलता है।
– मक्के के आटे को पानी में घोल कर चेहरे पर लगाने से कील-मुंहासे व झाइयां दूर होती हैं। इससे त्वचा कांतिमय हो जाती है।
– मक्के के आटे की रोटी का प्रतिदिन सेवन करने से रक्त शुद्ध होता है।
– भुट्टे के मुंहे के बालों व डण्ठलों से काढ़ा तैयार करें। इसका सेवन गुर्दे की सूजन के लिए लाभप्रद है।
– पथरी व किडनी स्टोन में इसके छिलके में उपस्थित सुनहरी बालियों को अच्छी तरह पकाने छानने के बाद शेष पानी को कुछ दिनों तक लगातार पीने से इस रोग से छुटकारा मिलता है।
– ध्यान दें, जिनकी पाचन शक्ति कमजोर है, उनको मक्के का सेवन कम करना चाहिए अर्थात् पाचन शक्ति के अनुसार ही इसका सेवन हितकारी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

महाराष्ट्र में लॉकडाउन शुरू : दो घंटे में निपटानी होंगी शादियां

नियम तोड़ने पर 50 हजार का जुर्माना महाराष्ट्र : महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के केस कम नहीं हो रहे थे, इसलिए राज्य सरकार आज रात 8 आगे पढ़ें »

‘पहली शादी नहीं चली दोबारा करने का क्या फायदा’ मलाइका के साथ तलाक पर अरबाज खान ने बयां किया…

मुंबईः इस बात में कोई दो राय नहीं कि तलाक एक दिल दहला देने वाली प्रक्रिया है, जिससे कोई भी गुजरना नहीं चाहता है। खासकर आगे पढ़ें »

ऊपर