मैग्नीशियम की कमी से भुलक्कड़पन

 

स्मरण शक्ति की कमी एवं भूलने की समस्या के पीछे जिम्मेदार तत्व मैग्नीशियम है। रक्त में मैग्नीशियम का सीरम लेवल टेस्ट किया गया तब यह ज्ञात हुआ। खानपान के माध्यम से यह मैग्नीशियम हमें प्राप्त होता है। शरीर को इसकी सूक्ष्म मात्रा की आवश्यकता पड़ती है। इसकी कमी ही बच्चों को भुलक्कड़ बना देती है। उनका शारीरिक, मानसिक विकास रुक जाता है। परिणामत: जिस उम्र में उन्हें मम्मी पापा बोलना चाहिए, वे बोल नहीं पाते हैं। बच्चा चंचल होने के बजाय सुस्त पड़ा रहता है और उपयुक्त समय पर चल फिर नहीं पाता है। कुछ बच्चों को इसके कारण झटके भी आते हैं। भारत के एक चौथाई बच्चों में यह स्थिति पाई जाती है। प्राय: सात माह की आयु में बच्चा बैठने लगता है पर मैग्नीशियम की कमी वाले बच्चे एक साल में बैठ पाते हैं जबकि एक साल की उम्र में ये खड़े होने व चलने लगते हैं और इस तत्व के अभाव वाले बच्चे एक से डेढ़ वर्ष की उम्र में खड़े हो पाते हैं। यह कुपोषण के कारण होता है। अपने देश की एक समस्या यह कुपोषण ही है जो यहां की स्त्रियों एवं बच्चों को निर्बल अर्थात कमजोर बनाता है। उल्लेखित मैग्नीशियम तत्व दाल, राजमा, मूंग, मोठ, बरबट्टी, कच्चा चना, अंकुरित चना सेम व मटर में पाया जाता है।

विटामिन के नियमित सेवन से आप भुलक्कड़ नहीं बन सकते

विशेषज्ञों के अनुसार अगर आपको भूलने की शिकायत है तो अपने भोजन की तरफ ध्यान दें नहीं तो आपको भुलक्कड़ कहा जाएगा। अगर आप बहुत जल्दी भूल जाते हैं तो इसका अर्थ है कि आप में विटामिनों की कमी है, इसलिए अपने भोजन में बींस को शामिल कीजिए। बींस बी 6 और फोलेट के उत्तम स्रोत हैं। इसके अतिरिक्त सी फूड और मीट भी विटामिन बी 12 के अच्छे स्रोत हैं। अगर आपकी त्वचा रुखी है तो इसका अर्थ है कि आपमें विटामिन ए की कमी है इसलिए अपने भोजन में गाजर, पालक, आम, मछली के तेल, शकरकंद और अखरोट बादाम का सेवन करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

विराट की अनुपस्थिति का नहीं होगा वित्तीय असर : हॉकली

सिडनी : क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष निक हॉकली ने कहा है कि पहले टेस्ट मैच के बाद भारतीय टीम के कप्तान विराट आगे पढ़ें »

बायो-बबल में रहना बड़ा त्याग : बोल्ट

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट का मानना है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैलेंडर के शुरू होने के बाद बायो-सुरक्षित माहौल में रहना क्रिकेटरों आगे पढ़ें »

ऊपर