20 दिनों में एक ही परिवार के आठ सदस्यों की मौत

लखनऊ : लखनऊ के बाहरी इलाके में स्थित इमलिया गांव खामोश सदमे और शोक में डूबा हुआ है। 25 अप्रैल से 15 मई के बीच 20 दिनों के भीतर एक परिवार के सात सदस्यों की मृत्यु हो गई। आठवां सदस्य लगातार मौतों के सदमे को सहन करने में असमर्थ था और हृदय गति रुकने से उसकी मृत्यु हो गई। मृतकों में परिवार के चार भाई शामिल हैं। परिवार के जीवित मुखिया ओंकार यादव के अनुसार, “मेरे चार भाई, दो बहनें और मां की कोविड से मृत्यु हो गई। मेरी मौसी इस सदमे को सहन नहीं कर सकीं और उनकी हृदयघात से मृत्यु हो गई।” उन्होंने आगे कहा, “मैंने सुबह अपनी मां का अंतिम संस्कार किया और फिर उसी दोपहर तीन भाइयों का अंतिम संस्कार किया। मेरे छोटे भाई और दो बहनों की अगले दिनों में मृत्यु हो गई।” यादव ने कहा कि उनके परिवार के सदस्यों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्हें ऑक्सीजन बेड और उचित इलाज नहीं दिया गया।
सोमवार को उन्होंने परिवार के पांच सदस्यों की तेहरावी रस्म अदा की। शेष तीन सदस्यों के लिए अनुष्ठान बाद में किया जाएगा। गांव के मुखिया मेवाराम ने कहा कि सरकार की ओर से एक भी प्रतिनिधि गांव में नहीं आया है। उन्होंने कहा कि मौतों के बावजूद गांव में सैनिटाइजेशन नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, ”हमें अपना बचाव करने और इलाज के बिना मरने के लिए छोड़ दिया गया है। परिवार के बच्चे अभी तक सह नहीं पा रहे हैं कि इतने बड़े बुजुर्ग अचानक से गायब क्यों हो गए हैं।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

एम.ए पास नटवरलाल चला रहा था चोरों का गिरोह, 3 गिरफ्तार

पिता थे सेल के ऑफिसर एवं मां थी शिक्षिका, बेटा है चोर यह सुनकर ही मां ने कर ली थी आत्महत्या हावड़ा, हुगली, आसनसाेल में कई आगे पढ़ें »

सेक्स के दौरान लड़कियों के जांघों को…

कोलकाता : शारीरिक संबंध बनाने के दौरान महिला और पुरुष, दोनों में आपसी सामंजस्य होना बेहद आवश्यक होता है। सेक्स को दोनों शारीरिक संतुष्टि चाहते आगे पढ़ें »

ऊपर