1 रुपये के सिक्के से चमक जाएगी फूटी किस्मत, रिश्तेदार भी पूछेंगे तरक्की का राज!

कोलकाता: एक आम जिंदगी जीने के लिए रोटी, कपड़ा और मकान वाली बात तो आपने कहते हुए कई लोगों को सुनी होगी लेकिन आज अगर आप एक खुशहाल जिंदगी चाहते हैं तो उसके लिए रोटी, कपड़ा, मकान के साथ पैसा होना भी बहुत जरूरी है। आज के समय में पैसा एक ऐसी ताकतवर चीज बन गई है जो समाज में आपको मान-सम्मान दिलाती है। कई लोग पैसा कमाने की लाख कोशिश करते हैं लेकिन काफी मेहनत करने के बाद भी उनके जीवन कंगाली बरकरार रहती है। अगर आप भी ऐसी ही श्रेणी में आते हैं तो ये न सोचें कि आपकी मेहनत में कोई कमी है। कभी-कभी ये ग्रह नक्षत्रों की चाल और वास्तु दोषों की वजह से होता है। इन दोषों से छुटकारा पाने के लिए ज्‍योतिषी विज्ञान में कुछ उपाय बताए गए हैं। 1 रुपये का सिक्का आपको इन दिक्कतों से निजात दिला सकता है।

1 रुपये के सिक्‍के से दूर होगी कंगाली

1. अगर आर्थिक दिक्कतों की वजह से आपके घर में कलह होती है तो इसे दूर करने के लिए हर शुक्रवार घर के मंदिर के कलश में पानी भरने के बाद 1 रुपये का सिक्का डालें और कलश पर स्वास्तिक बनाएं। इसके बाद इस कलश की रोज पूजा करें।

2. घर ने रखे कच्चे चावल और 1 रुपये का सिक्‍का पैसे की तंगी को दूर कर सकता है। इसके लिए अपनी मुट्ठी में चावल और एक रुपये का सिक्का लेकर भगवान की  प्रार्थना करें और इसके बाद उसे मंदिर के अंदर एक कोने में रख दें। ऐसा करने से घर-परिवार की आर्थिक परेशानियां दूर हो जाएंगी।

3. हिंदू धर्म में माता लक्ष्मी को धन-समृद्धि की देवी माना गया है। आपको करना बस इतना है कि एक चौमुखी दीपक घर के मुख्‍य दरवाजे पर जलाना है और इस जलते हुए दीपक में 1 रुपये का सिक्का डालना है। अगर हो सके तो 1 रुपये का सिक्‍का और मोर पंख हमेशा जेब में लेकर चले ऐसा करने से जीवन में कई तरह के अच्छे मौके मिलेंगे।

Visited 373 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर