लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा-न्यायसंगत, शांतिपूर्ण, समृद्ध विश्व के लिए सुस्थापित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था

Om Birla

बेलग्रेड : सर्बिया की राजधानी बेलग्रेड में अंतर संसदीय संघ की 141वीं बैठक में भारतीय संसदीय शिष्टमंडल का नेतृत्व कर रहे लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने न्यायसंगत, शांतिपूर्ण तथा समृद्ध विश्व के लिए सुस्थापित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था कायम करने और इसके लिए लोकतांत्रिक देशों की संसद की भूमिका का अधिक प्रभावी बनाने की आवश्यकता व्यक्त की है। बिरला ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों का सुदृढ़ीकरण : संसद की भूमिका और तंत्र तथा क्षेत्रीय सहयोग का योगदान’ विषय पर सभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि एक न्यायसंगत, शांतिपूर्ण तथा समृद्ध विश्व के लिए सुस्थापित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था जरूरी है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय कानूनों के दस्तावेजों के हस्ताक्षरकर्ता होने के नाते हर देश को अपने-अपने क्षेत्रों में इनक क्रियान्वयन सुनिश्चित करना होता है।

भारत अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देगा
बिरला ने कहा कि भारत के संविधान में अंतरराष्ट्रीय संधि की प्रतिबद्धताओं को बाध्यकारी माना गया है और संविधान के अनुच्छेद 51 में निर्धारित किया गया है कि भारत अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देगा, राष्ट्रों के बीच न्यायसंगत और सम्मानपूर्ण संबंधों को बनाए रखेगा, अंतरराष्ट्रीय विधि और संधि दायित्वों के प्रति आदर बढ़ाने का कार्य करेगा और अंतरराष्ट्रीय विवादों का निपटान मध्यस्थता के द्वारा किए जाने को प्रोत्साहित करेगा। उन्होंने कहा कि संसद अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं को लागू करने के लिए आवश्यक कानून पारित करने, उनके लिए बजट अनुमोदित करने और अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में सरकारों के संकल्प का सम्मान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

संसद एक पारदर्शी संस्था
उन्होंने कहा कि हाल ही में अंतरराष्ट्रीय कानूनों को सुदृढ़ करने में संसदीय राजनय की भूमिका बढ़ी है और इससे संसदों को विकास का एजेंडा लोगों तक पहुंचाने और इस प्रकार जनता की सहमति प्राप्त करने तथा अनौपचारिक क्षेत्र में भाईचारे और मिलनसारिता को बढ़ावा देकर आपसी संबंधों को मजबूत बनाने और लोगों के बीच आपसी समझ को बढ़ाने के अवसर प्राप्त होते हैं। बिरला ने कहा कि संसद एक पारदर्शी संस्था है और इस पारदर्शिता से देशवासियों को अपने निर्वाचित प्रतिनिधियों के कामकाज के बारे में जानकारी प्राप्त होती है, विधायी प्रक्रियाओं में शामिल होने में मदद मिलती है और सांसदों को जवाबदेह और जिम्मेदार ठहराने का अधिकार मिलता है।

विश्वव्यापी संसदीय वार्ता का केन्द्र बिन्दु
सांसद को जनता और सरकार के बीच संवाद का माध्यम बताते हुए बिरला ने कहा कि लोगों के निर्वाचित प्रतिनिधि होने के नाते विधायकों के पास यह अवसर होता है कि राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर बातचीत को बढ़ावा देने के साथ साथ संसदीय कार्यवाहियों और कार्यपालिका की पहलों के बारे में जानकारी प्रदान करते हुए लोगों के संपर्क में रहें। बिरला ने संसदीय राजनय को बढ़ावा देने में अंतर संसदीय संघ द्वारा निभाई जा रही सक्रिय भूमिका की सराहना की और कहा कि संसदों का विश्व संगठन होने के नाते अंतर संसदीय संघ विश्व के समक्ष उपस्थित महत्वपूर्ण मुद्दों पर ‘विश्वव्यापी संसदीय वार्ता का केन्द्र बिन्दु ‘बन गया है।

अंतर संसदीय संघ देशों के बीच ‘शान्ति और सहयोग’
उन्होंने यह रेखांकित किया कि अंतर संसदीय संघ देशों के बीच ‘शान्ति और सहयोग’ के लिए तथा मजबूत लोकतान्त्रिक संस्थाओं की स्थापना के लिए कार्यरत है। उन्होंने कहा कि इसके द्वारा निर्धारित एजेंडा का अनुपालन करते हुए एक सुविचारित जनमत तैयार किया जाता है। इस प्रकार अंतर संसदीय संघ एक क्षेत्र के सांसदों को एक मंच पर लाकर क्षेत्रीय सहयोग को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

यह प्लान आपको दिलाएगी क्रेडिट- डेबिट कार्ड कैरी करने से मुक्ति

नई दिल्ली : डिजिटल ट्रांजैक्शन के दौर में अधिकांश लोगों के पास एक से ज्यादा डेबिट, क्रेडिट कार्ड हैं। वर्ष 2016 में नोटबंदी के बाद आगे पढ़ें »

सरकारी कंपनियों का रणनीतिक विनिवेश होगा शुरू, पहले चरण में पांच कंपनियों की बिकेगी हिस्सेदारी

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने सरकारी कंपनियों का रणनीतिक विनिवेश शुरू करने का फैसला किया है और विनिवेश के पहले चरण में पांच कंपनियों आगे पढ़ें »

ऊपर