फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी कर रहा लेखपाल बर्खास्त

fake degree

बलिया : उत्तर प्रदेश के बलिया में जिला प्रशासन ने फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर पिछले 3 वर्ष से नौकरी कर रहे राजस्व विभाग के एक कर्मचारी को बर्खास्त कर दिया है। बलिया सदर तहसील के उप जिलाधिकारी अश्विनी कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि बलिया तहसील में कार्यरत लेखपाल अजय कुमार को बर्खास्त कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति के फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी पाने का मामला संज्ञान में आने पर जांच के बाद यह कार्रवाई की गई है। कुमार ने फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर 3 वर्ष पूर्व नौकरी हासिल की थी। उन्होंने बताया कि लेखपाल के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने के साथ ही उसको दिए गए वेतन की वसूली की कार्रवाई की जा रही है।

लेखपाल पर पहले से ही जालसाजी का मुकदमा दर्ज है

बता दें कि लेखपाल अजय कुमार पर जालसाजी का मुकदमा पहले से ही दर्ज है। इसके अलावा 11 गांवों का चार्ज और उससे संबंधित अभिलेख नहीं देने की वजह से राजस्व निरीक्षक सोहांव ने सोमवार को नरहीं थाने में पुन: मामला दर्ज करायी है। वहीं नरहीं पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है। निलंबित लेखपाल द्वारा राजस्व अभिलेखों में जालसाजी करने का मामला जब सामने आया था, उसके बाद 5 अक्टूबर को मुकदमा पंजीकृत कराया गया था। जांच के दौरान यह भी पाया गया कि लेखपाल द्वारा नियुक्ति में फर्जी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र भी लगाया गया है।

बर्खास्त लेखपाल फरार चल रहा है

जांच के बाद उपजिलाधिकारी सदर ने 16 नवम्बर को आरोपी अजय कुमार को लेखपाल पद से बर्खास्त कर दिया। जानकारी के मुताबिक, बर्खास्त लेखपाल फरार चल रहा है। जिसके पास 11 गांव का अभिलेख भी है जो अब तक जमा नहीं किया गया है। जिससे संपूर्ण समाधान दिवस व आइजीआरएस की शिकायतों का निस्तारण पूरी तरह से बाधित है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य को निभाएं : राज्यपाल

कोलकाता : राज्यभर में नागरिकता संशोधित कानून (कैब) के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन और हिंसा के बीच ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर