सबरीमाला में महिलाओं के प्रवेश पर विधि मंत्री बोले- शीर्ष न्यायालय के फैसले पर दरअसल रोक लगी है

balan

तिरूवनंतपुरम : केरल के विधि मंत्री ए के बालन ने रविवार को कहा कि सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय के 28 सितंबर के आदेश पर फिलहाल रोक लगी हुई है और राज्य सरकार केवल अदालत के निर्णय के आधार पर ही कदम उठा सकती है। वहीं कड़ी सुरक्षा के बीच हजारों श्रद्धालुओं ने शनिवार को भगवान अयप्पा मंदिर के कपाट खुलने पर पूजा-अर्चना की। हालांकि, पुलिस ने बताया कि 10 महिलाओं को पम्बा से वापस भेज दिया गया।

अदालत के आदेश के मुताबिक होगा काम : बालन

बालन ने संवाददाताओं से कहा कि ‘इस मामले में संवैधानिक सरकार अदालत के आदेश के मुताबिक ही काम कर सकती है। अब हमारे सामने एक नई समस्या है। सवाल है कि 14 नवंबर के फैसले में पूर्व के आदेश पर रोक लगाई गई या नहीं। विधि सम्मत दावे के अनुसार रोक नहीं है, लेकिन वास्तव में वहां रोक लगी है। असल में 2018 के आदेश पर रोक लगी है भले ही आधिकारिक तौर पर इसका उल्लेख नहीं किया गया है।’

एलडीएफ ने इन महिलाओं को प्रोत्साहित करने से किया इनकार

दरअसल, शीर्ष अदालत ने भगवान अयप्पा मंदिर में महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने के सितंबर 2018 के अपने आदेश पर रोक नहीं लगाई थी। केरल में एलडीएफ सरकार ने इस बार कहा है कि मंदिर ‘अभियान चलाए जाने या प्रदर्शन करने’ का स्थान नहीं है और साफ कर दिया कि वह महिलाओं को प्रोत्साहित नहीं करेगी जो कि प्रचार के लिए मंदिर जाना चाहती हैं। उल्लेखनीय है कि शीर्ष न्यायालय की 5 सदस्यीय पीठ ने सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की उम्र की महिलाओं को प्रवेश और अन्य धर्म से जुड़े मामलों को वृहद पीठ को भेज दिया है।

28 सितंबर को महिलाओं को मंदिर जाने की मिली थी अनुमति

पिछले साल 28 सितंबर को शीर्ष न्यायालय द्वारा सभी आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने और राज्य की वाम मोर्चा सरकार द्वारा इसका अनुपालन करने की प्रतिबद्धता जताए जाने के बाद दक्षिणपंथी संगठनों और भाजपा कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किए थे। गौरतलब है कि केरल में सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के मंदिर में दर्शन के लिए रविवार को श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। 2 महीने तक चलने वाली वार्षिक तीर्थयात्रा ‘मंडल-मकरविलक्कू’ का आज दूसरा दिन है।

इन अवसरों पर खुलते हैं मंदिर के कपाट

सबरीमाला मंदिर पेरियार बाघ संरक्षण क्षेत्र में है और इसके कपाट श्रद्धालुओं के लिए केवल मंडलपूजा, मकरविलक्कू और विशू उत्सव के लिए खोले जाते हैं। इस तीर्थयात्रा सत्र के दौरान मंदिर 27 दिसंबर तक मंडलपूजा के लिए खुला रहेगा और फिर 3 दिन के लिए मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाएंगे। मंदिर के कपाट दोबारा 30 दिसंबर को मकरविलक्कू के लिए खुलेंगे और मंदिर के कपाट 20 जनवरी को बंद कर दिए जाएंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dhanoa

अभिनंदन के पास राफेल होता तो स्थिति अलग होती: पूर्व वायुसेना प्रमुख

नई दिल्ली : पंजाब सरकार की तरफ से चंडीगढ़ में आयोजित मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल में शनिवार को ‘अंडरस्टैंडिंग द मैसेज ऑफ बालाकोट’ कार्यक्रम में पूर्व आगे पढ़ें »

assam

नागरिकता कानून : असम में अबतक 6 लोगों की मौत, बंगाल में उग्र प्रदर्शन जारी

गुवाहाटी : नागरिकता संशोधन कानून विरोध में प्रदर्शनों के चलते हिंसा की चपेट में आए असम में रविवार को तीसरे दिन भी कर्फ्यू में ढील आगे पढ़ें »

ऊपर