लश्कर का सहयोगी संगठन फलाह-ए-इंसानियत साइबर जगत में अब भी सक्रिय : केंद्रीय गृह राज्य मंत्री

reddy

नई ‌‌दिल्ली : केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी ‌किशन रेड्डी ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सहयोगी संगठन फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को संयुक्त राष्ट्र आतंकी घोषित कर चुका है, उसके बावजूद यह साइबर क्षेत्र में सक्रिय बना हुआ है। उन्होंने कहा कि भारत की तफ्तीश में पता चला है कि पश्चिम एशिया का आतंकी समूह आईएसआईएस इनक्रिप्टिड (कूट या कोड वाले) प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करता है। रेड्डी मेलबर्न में ‘आतंकवाद के लिए धन नहीं’ सम्मेलन के दूसरे दिन संबोधित कर रहे थे।

आतंकवाद के वित्तपोषण में क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल

‘उभरती प्रौद्योगिकी और आतंकवाद वित्तपोषण के जोखिम’ विषय पर गोलमेज चर्चा में मंत्री ने फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन की साइबर गतिविधियों का जिक्र किया और कहा कि आतंकी घोषित किये जाने के बावजूद यह संगठन साइबर जगत में सक्रिय है। रेड्डी ने आतंकवाद के वित्तपोषण में क्रिप्टो करेंसी के इस्तेमाल का भी उल्लेख किया। गौरतलब है कि फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन का संस्थापक हाफिज सईद लश्कर-ए-तैयबा का भी प्रमुख है।

सरकार आतंक वित्तपोषण रोधी व्यस्‍था स्‍थापित करने के लिए प्रतिबद्ध

इस मुद्दे पर भारत का रुख पेश करते हुए रेड्डी ने प्रतिनिधियों को आश्वासन दिया कि भारत सरकार वित्तीय कार्य बल के मानकों को लागू करने तथा प्रभावी धनशोधन रोधी एवं आतंक वित्तपोषण रोधी व्यवस्था स्थापित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है ताकि आतंकवाद को आर्थिक मदद देने वाले ढांचों को तबाह किया जा सके। रेड्डी पांच सदस्यीय उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं जिसमें राष्ट्रीय जांच एजेंसी के महानिदेशक वाई सी मोदी भी शामिल हैं।

बता दें कि ‘आतंकवाद के लिये धन नहीं’ सम्मेलन का आयोजन 100 से ज्यादा देशों की वित्तीय खुफिया इकाइयों (एफआईयू) द्वारा आयोजित किया जाता है। इसे सामूहिक रूप से एग्मॉन्ट समूह भी कहते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

धुपगुड़ी हादसा : केंद्र 2 तो राज्य देगा 2.5 लाख रुपये आर्थिक सहायता

राज्य सरकार की ओर से दी दिये जाएंगे 2.5 लाख रुपये सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जलपाईगुड़ी के धुपगुड़ी में हुए दर्दनाक हादसे में 14 लोगों की मौत आगे पढ़ें »

गुरु गोबिंद सिंह जी की 354वीं जयंती मनायी गई

कोलकाता : गुरु गोबिंद सिंह जी की 354वीं जयंती कोलकाता के बेहला गुरुद्वारा, संत कुटिया गुरुद्वारा और जगत सुधार गुरुद्वारा सहित अन्य गुरुद्वारों में बड़े आगे पढ़ें »

ऊपर