जगन्नाथ मंदिर के आसपास सुरक्षा क्षेत्र के लिए भूमि हस्तांतरण की समयसीमा बढ़ायी गई

भुवनेश्वर : ओडिशा सरकार ने पुरी में भगवान जगन्नाथ मंदिर के आसपास सुरक्षा क्षेत्र बनाने के लिए जरूरी निजी भूमि के स्वैच्छिक हस्तांतरण के लिए समयसीमा मंगलवार को 9 दिसम्बर तक बढ़ा दी। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने समयसीमा 9 दिसम्बर तक बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। यह समयसीमा पहले 2 दिसम्बर तक थी। पटनायक ने गत अगस्त में स्थानीय लोगों से अपील की थी कि मंदिर की चारदीवारी से 75 मीटर के भीतर आने वाली जमीनें खाली कर दें।

लोगों के समर्थन के मद्देनजर समयसीमा बढ़ायी गयी

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि लोगों के समर्थन के मद्देनजर पटनायक ने समयसीमा बढ़ायी है। इसमें कहा गया कि 2 दिसम्बर तक 106 निजी प्लाट के अधिग्रहण के लिए 80 बैनामा किये गए। इसमें कहा गया कि 12वीं सदी के मंदिर के चारों ओर सुरक्षा क्षेत्र बनाने के लिए जरूरी जमीन का करीब 75 प्रतिशत राज्य सरकार अभी तक अधिग्रहण कर चुकी है।

लोगों ने अपनी जमीन स्वैच्छिक रूप से पेश की

पटनायक ने उन लोगों को धन्यवाद दिया जिन्होंने सुरक्षा घेरे के लिए अपनी जमीन स्वैच्छिक रूप से पेशकश की। उन्होंने कहा कि ‘‘मैंने लोगों से श्री जगन्नाथ के चारों ओर सुरक्षा घेरा बनाने के लिए जन्माष्टमी पर लोगों से जमीन स्वैच्छिक रूप से सौंपने का आग्रह किया था। मेरा अनुरोध रखने के लिए मैं आपका आभारी हूं।’’

पुरी को एक विरासत शहर बनाने का संकल्प हुआ मजबूत

पटनायक ने कहा, ‘इससे पुरी को एक विरासत शहर बनाने का राज्य सरकार का संकल्प और मजबूत हुआ है।’ राज्य सरकार इससे पहले मंदिर की चारदीवारी के 75 मीटर के भीतर पड़ने वाले कुछ प्राचीन ढांचों को ध्वस्त करके मठ की जमीनें अधिग्रहित कर चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

welse

भारत और अमेरिका के बीच संबंध अटूट हैं : एलिस वेल्स

वाशिंगटन : अमेरिका की एक शीर्ष राजनयिक ने कहा है कि भारत और अमेरिका के बीच संबंध अटूट हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आगे पढ़ें »

dilip

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को विदेशों से आए पैसे मिलते हैं : दिलीप घोष

कोलकाता : पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने शनिवार को यह दावा कर नया विवाद पैदा कर दिया कि दिल्ली के शाहीन बाग में आगे पढ़ें »

ऊपर