शनि ग्रह को शांत करने के लिए खाएं खिचड़ी, जानिए इसका महत्व

कोलकाता : शनिवार का दिन भगवान शनि को समर्पित है। शनि देव को न्याय का देवता भी कहा जाता है। लेकिन फिर भी लोगों के मन में क्रोध बरसाने वाले देवता के रूप में बनी हुई है। इसका कारण है शानि की साढ़े साती और वक्र दृष्टि है। ज्योतिशास्त्रों में बताया गया है कि किस तरह से शनि देव को प्रसन्न कर सकते हैं। शनिदेव के बारे में यह भी कहा गया है कि एक बार जब शनिदेव किसी से प्रसन्न हो जाते हैं तो उसके जीवन के सभी बिगड़े काम बन जाते है। कुंडली में शनि ग्रह को विशेष महत्व दिया गया है। अगर कोई व्यक्ति शनि ग्रह से पीड़ित है तो ज्योतिशास्त्रों में कई उपायों के बारे में बताया गया है। जिसे अपनाकर आप शनिदेव को प्रसन्न कर सकते है। आइए जानते हैं किन चीजों का सेवन करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।
ज्योतिशास्त्रों के अनुसार शनिवार के दिन उड़द दाल की खिचड़ी का सेवन करना अच्छा होता है। इससे शानि दोष से राहत मिलती है। अगर कोई हर शनिवार को उड़द दाल की खिचड़ी खाता है तो शनि देव की कृपा बनी रहती है। इसके अलावा जिस तरह से शनिवार के दिन शनि देव को सरसों का तेल और काला तिल चढ़ाया जाता है। ठीक उसी तरह इस दिन काले तिल का सेवन करना शनि ग्रह को शांत रखता है। ज्योतिषों की मानें तो शनिवार के दिन गुलाब जामुन खाने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं
कौन है शनिदेव
शनिदेव भगवान सूर्य और माता छाया के पुत्र हैं। ऐसा कहा जाता हैं कि सूर्यदेव द्वारा माता छाया का अपमान करने के कारण शनिदेव की अपने पति से नहीं बनती है। ज्योतिषों के मुताबिक, शनि अपनी धीमी गति चलता है और वह एक राशि में ढाई वर्षों तक रहते हैं। अगर किसी व्यक्ति के ग्रह में शनि दोष है तो उसके जीवन में सभी काम असफल हो जाते है और बुरे दिन शुरू हो जाते हैं। वहीं, अगर शनि देव किसी से प्रसन्न हो गए तो उसके सभी बिगड़े काम बन जाते हैं। उसके जीवन में सुख – समृद्धि रहती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

‘गुलाब’ टकराया, आज से बारिश शुरू

चक्रवात के असर से महानगर व आस-पास के जिलों में झमाझम बारिश 28 व 29 सितंबर को गंगा तटवर्ती इलाकों में भारी बारिश का अनुमान सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः आगे पढ़ें »

ऊपर