दोस्त की हत्या कर उसकी पत्नी को अपने साथ रखा, फिर दो साल बाद…

इटावा : उत्तर प्रदेश के इटावा के थाना ऊसराहार क्षेत्र में एक नाले में 22 जून को एक महिला का शव मिला था। जांच में पता चला कि महिला राजस्थान की रहने वाली है। उसके दो बच्चे भी हैं। उसकी हत्या उसके प्रेमी ने गोली मारकर की थी। महिला का प्रेमी ट्रेवल एजेंसी में ड्राइवर था, वह इटावा के पास ऊसराहार का रहने वाला है। महिला अपने बच्चों को लेकर उसके साथ पत्नी बनकर दो साल से रह रही थी। महिला के परिवार वालों ने दो वर्ष पूर्व उसकी और बच्चों की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। पुलिस ने बताया कि गजेंद्र नाम का युवक अपनी पत्नी मिथिलेश के साथ नोएडा में रहता था। एक ट्रेवल एजेंसी में गजेंद्र और सतीश दोनों ही ड्राइवर थे। दोनों की दोस्ती हो गई, इसके बाद सतीश का अफेयर गजेंद्र की पत्नी मिथिलेश के साथ हो गया। इसी बीच सतीश, गजेंद्र और उसकी पत्नी मिथिलेश इटावा घूमने पहुंचे। वहां सतीश यादव ने मिथिलेश के साथ मिलकर उसके पति गजेंद्र को जमकर शराब पिलाई और फिर अकेले गाड़ी में बैठाकर सीट बेल्ट लगाकर कार को नहर में फेंक दिया।
गजेंद्र का शव सैफई हवाई पट्टी के पास नहर से बरामद हुआ था, जहां पोस्टमॉर्टम में गजेंद्र की मौत नहर में डूबने से होना बताई गई। इसके बाद मिथिलेश दो महीने के लिए राजस्थान के झुंझुनू में अपनी ससुराल चली गई। वहां से दोनों बच्चों को लेकर परिवार में बिना बताए सतीश के साथ इटावा पहुंची। इसके बाद सतीश और मिथिलेश पति पत्नी की तरह रहने लगे। दो साल बाद सतीश को मिथिलेश पर शक होने लगा कि उसके कहीं अवैध संबंध हो गए हैं। इस पर सतीश मिथिलेश को पूजा के बहाने मंदिर के पास जंगल में ले गया और पीठ में गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद शव नाले में फेंक दिया। मृतक महिला दुल्हन की तरह सजी थी, उसके पास नारियल, चावल और पूजा सामग्री भी पड़ी थी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश सिंह ने बताया कि सतीश यादव ने मिथिलेश के पति गजेंद्र की भी हत्या की थी, जिसमें उसका साथ मिथिलेश ने दिया था। फिर सतीश और मिथिलेश पति पत्नी की तरह रहे। इसके बाद सतीश ने उसकी भी हत्या कर दी है। आरोपी सतीश के पास से तमंचा, कारतूस और हत्या में प्रयुक्त गाड़ी बरामद की है। सतीश को दोनों की हत्या के मामले में आरोपी बनाकर जेल भेजा जा रहा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इस उम्र के बाद बच्चे को जरूर सिखाएं ये 5 काम करना, कई मुश्किलें होंगी आसान

कोलकाता : बच्चों की खास देखभाल और बेहतर परवरिश के लिए पैरेंट्स हर मुमकिन कोशिश करते हैं। बावजूद इसके कुछ बच्चे आलसी नेचर के होते आगे पढ़ें »

ऊपर