शनि, राहु व केतु दोष का अचूक रामबाण है काजल और सुरमा

कोलकाता : महिलाएं आंखों की सुंदरता बढ़ाने के लिए काजल का उपयोग करती हैं। वहीं, काजल और सुरमा आंखों से संबंधित परेशानियों को दूर करने का भी काम करता है। ज्योतिष शास्त्र की बात करें तो काजल और सुरमे का संबंध शनि, राहु और केतु से माना जाता है। ऐसे में अगर शनि, राहु और केतु से संबंधित दोष है तो काजल और सुरमे से उपाय किए जा सकते हैं। वहीं, इनके जरिए कई अन्य तरह के संकट भी टल जाते हैं।
मंगल की दशा
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करने के साथ सफेद रंग का सुरमा आंखों में लगाएं। इससे जो जातक की कुंडली में मंगल की बुरी दशा चल रही है, वह ठीक हो जाएगी। वहीं, शनि, राहु और केतु के दोष भी समाप्त हो जाएंगे।
शनि, राहु-केतु का प्रभाव
मंगल और शनिवार के दिन सुरमा आंखों पर जरूर लगाना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, कुंडली में मंगल की दशा ठीक न होने पर शनि, राहु और केतु के दोष भी बढ़ जाते हैं। इन दोषों से मुक्ति पाने के लिए 40 दिन तक रोजाना आंखों पर सफेद सुरमा लगाएं।
साढ़ेसाती
सुरमे से शनि के साढ़ेसाती से बचने के लिए भी उपाय किए जा सकते हैं। शनिवार के दिन जिस इंसान पर साढ़ेसाती चल रही हो, उसकी एक शीशी में काले रंग का सुरमा लेकर सिर से पैर तक 9 बार उतार करें। इसके बाद शीशी को अज्ञात स्थान पर जमीन में गाड़ दें। इसके बाद घर जाते समय पीछे मुड़कर ना देखें। ऐसा करने से शनि की साढ़ेसाती का असर कम हो जाता है।
नौकरी
काजल की 5 ग्राम या उससे अधिक की डली लाकर शनिवार के दिन सुनसान जगह पर जाकर जमीन में गाड़ दें। ऐसा करने से नौकरी से संबंधित समस्या दूर हो जाती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पंचायत चुनाव में क्यूआर कोड वाले बैलट बॉक्स का किया जायेगा इस्तेमाल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव जहां केंद्रीय वाहिनी की निगरानी में होने की बात है, वहीं इस चुनाव में आगे पढ़ें »

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं

डायमण्ड हार्बर में सुकांत के सामने भिड़े भाजपाई, पार्टी ने कहा, राजनीतिक विवाद नहीं सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शनिवार को डायमण्ड हार्बर में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत आगे पढ़ें »

ऊपर