…तो इसलिए रखा जाता है जितिया व्रत, जानें पूजा विधि और महत्व

कोलकाता: सनातन परंपरा में हर दिन किसी न किसी देवी-देवता की पूजा से जुड़ा होता है। आस्था से जुड़े आश्विन मास में संतान की सुख-समृद्धि और लंबी आयु की कामना के लिए जीवित्पुत्रिका अथवा जिऊतिया या फिर कहें जितिया व्रत रखा जाता है।

यह व्रत हर साल आश्विन मास के कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है जो कि इस साल 18 सितंबर को पड़ने जा रही है। इस व्रत को मुख्य रूप से भारत में बिहार, झारखण्ड और उत्तर प्रदेश तथा नेपाल में मनाया जाता है। जितिया व्रत का नाम गंधर्व राजकुमार जीमूतवाहन के नाम पर रखा गया है, आइए इस व्रत की पूजा की विधि, शुभ मुहूर्त और धार्मिक महत्व आदि के बारे में विस्तार से जानते हैं।

शुभ मुहूर्त

देश की राजधानी दिल्ली के समय के अनुसार इस साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 17 सितंबर 2022 को दोपहर 02:14 बजे से लेकर 18 सितंबर 2022 को सायंकाल 04:32 बजे तक रहेगी। चूंकि सनातन परंपरा में प्रत्येक पर्व उदया तिथि में मनाया जाता है, ऐसे में जितिया व्रत इस साल 18 सितंबर 2022 को ही मनाया जाएगा और इसका पारण 19 सितंंबर को किया जाएगा।

पूजा विधि

संतान के सुख-समृद्धि की कामना के लिए रखा जाने वाला जितिया व्रत काफी कठिन माना जाता है। इस दिन महिलाएं अपने संतान की लंबी आयु की कामना के लिए पूरे दिन निर्जला उपवास रखती हैं। इस व्रत की पूजा तीन दिनों में संपन्न होती है। व्रत की शुरुआत आश्विन मास के कृष्णपक्ष की सप्तमी वाले दिन नहाय खाए से होती है। इस दिन महिला सूर्यास्त के बाद कुछ भी नहीं खाती हैं। इसके बाद अष्टमी के दिन विधि-विधान से निर्जला व्रत रखने के बाद नवमी तिथि वाले दिन व्रत का पारण किया जाता है।

धार्मिक महत्व

पौराणिक मान्यता के अनुसार महाभारत काल में अश्वत्थामा ने बदले की भावना लिए अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहे बच्चें को मारने का प्रयास किया था। अश्वत्थामा ने जब ब्रह्मास्त्र से उत्तरा के गर्भ को नष्ट कर दिया तब भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तरा की अजन्मी संतान को फिर से जीवित कर दिया। जिस भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तरा के बच्चे को गर्भ में जीवित किया, वह दिन आश्विन मास के कृष्णपक्ष की अष्टमी थी। तब से संतान की लंबी आयु की कामना लिए जीवित्पुत्रिका रखा जाने लगा। मान्यता है कि जो महिलाएं इस व्रत को पूरे विधि-विधान से रखती हैं, उनके बच्चों पर भगवान श्रीकृष्ण की विशेष कृपा बरसती है। मान्यता है कि इस व्रत को रखने से संतान की आयु बढ़ती है और निरोगी और सुखी जीवन जीता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोई हुई किस्मत को भी चमका देता है ‘केसर का टोटका’, पति-पत्नी का भी संबंध रहता मजबूत

कोलकाता : इंसान के कर्म कई बार ऐसे होते हैं जिसके उसकी किस्मत भी साथ देना छोड़ देती है। इस कारण से मन मुताबिक फल आगे पढ़ें »

आज जिलों में पूजा कार्निवल, कल कोलकाता में

जलपाईगुड़ी में नहीं होगा कार्निवल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : आज शुक्रवार को विभिन्न जिलों में पूजा कार्निवल होगा। कल शनिवार 8 अक्टूबर काे कोलकाता रेड रोड पर आगे पढ़ें »

ऊपर