30 साल के बाद सेक्स लाइफ में आते है ये बदलाव

कोलकाता : आपका सेक्स एक्सपीरियंस उम्र के हर दौर में अलग-अलग होता है, जब आप 20 के दशक में किशोर होते हैं तो उस समय आपके एक्सपीरियंस और 30 के दशक में आपका एक्सपीरियंस बिलकुल अलग होता है। जैसे-जैसे आप बड़े होते जाते हैं, आपके एक्सपीरियंस में बदलाव आता रहता है। सेक्स के बारे में जानने से लेकर और क्लाइमेक्स तक पहुंचने की पूर्णता तक आपके लिए कई चीजें बदल जाती हैं। अगर आपकी उम्र 30 के पार है, तो आपको अपने सेक्सुअल लाइफ में होने वाले कुछ महत्वपूर्ण बदलावों के बारे में जानने की बहुत जरूरत है।

कामेच्छा पहले जितनी प्रबल नहीं रहेगी

जब आप अपने 30 वर्ष की उम्र के दौर से गुजर रहे होते हैं, तो यह जरूरी नहीं है कि आप सेक्स करने की उतनी ही तीव्र इच्छा महसूस करें, जितना आपको पहले होती थी। कुछ लोगों को लगता है कि यह उनके लिए सबसे अच्छा समय है, लेकिन बहुतों को नहीं। कुछ मामलों में आग्रह कम होने लगता है। लाइफ में स्ट्रेस का होना, आमतौर पर बच्चों, परिवार, काम या यहां तक कि हर समय फिट दिखने की चाहत के कारण हो सकता है।
ड्रायनेस की समस्या

यदि आप पहले बर्थ कंट्रोल की गोलियां खा चुकी हैं, तो उसके कारण भी आपकी सेक्स करने की इच्छा कम हो सकती है। ये गोलियां ओव्यूलेशन को रोकती हैं, जिससे टेस्टोस्टेरोन कम होता है। आपको योनि में ड्रायनेस की समस्या हो जाती है, जिसके कारण सेक्स के दौरान आप कंफर्टेबल महसूस नहीं कर पाती हैं। यही कारण है कि आपको अच्छे लुब्रिकेंट्स का इस्तेमाल करना चाहिए और अपने गाइनी से अपनी समस्या के बारे में बात करनी चाहिए, उनके पास ड्रायनेस को दूर करने के अन्य सुझाव भी हो सकते हैं।

फ्रीक्वेंसी का कम होना

निःसंदेह यदि अब आपकी सेक्स करने की इच्छा अब पहले जैसी नहीं रही, तो आपके सेक्स करने की दर यानी फ्रीक्वेंसी भी कम हो जाती है। सप्ताह में पहले की तरह किए गए सेक्स की निश्चित संख्या को प्राप्त करने के लिए आपको खुद पर प्रेशर डालना बंद करना होगा। ये कोई फिल्म नहीं, बल्कि असल जिंदगी है। इस बारे में अपने पार्टनर से बात करें, क्योंकि आप दोनों एक ही नाव पर सवार हो।

ऑर्गेज्म प्राप्त करने में आसानी

कई महिलाएं, उम्र बढ़ने के साथ-साथ यह जानने लगती हैं कि उन्हें क्या चाहिए और आखिर में उनके लिए क्या काम करता है। पोजीशन, सही जगह और कामोत्तेजक भावना। तो इससे ऑर्गेज्म प्राप्त करना आसान हो जाता है। क्योंकि 20 के दशक में हम अपने शरीर, अपनी पसंद और टर्न ऑफ का पता लगा रहे होते हैं।

एक्सपेरिमेंट करना

यदि आपने पहले ऐसा कुछ नहीं किया है, तो आप जल्द ही महसूस करेंगे कि आपने सेक्स के दौरान ज्यादा एक्सपेरिमेंट करना शुरू कर दिया है, क्योंकि आप अपनी बॉडी के साथ अधिक कंफर्टेबल हो गए हैं। उम्र के साथ हमारे अंदर और लुक में जो मैच्योरिटी आती है, वह हमें शांत बनाती है, हमें यह पता लगाने में मदद करती है कि हम सेक्स को रोमांचक और रोमांटिक बनाने के लिए क्या कर सकते हैं और क्या नहीं, फिर उसी के अनुसार एक्सपेरिमेंट करना चाहिए। इससे हमारी झिझक भी दूर हो जाती है, क्योंकि हम समझ चुके होते हैं कि हम कौन हैं और हमारी खुद की जरूरतें क्या हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पर हमारा अनशन जारी रहेगा : कहा हाई कोर्ट में

आरजीकर के आंदोलनकारी छात्र 29 को मिलेंगे स्वास्थ्य सचिव से सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस देवांशु बसाक और जस्टिस रवींद्रनाथ सामंत के डिविजन बेंच आगे पढ़ें »

ऊपर