चुटकियों में वजन घटाती है इसबगोल की भूसी, जानें कब और कैसे लें….

कोलकाताः वजन घटाने के लिए आपने अब तक अलग-अलग वर्कटाउट रूटीन से लेकर कई तरह की डाइट लेने तक कई तरीके आजमा लिए होंगे। यहां तक की ब्राउन राइस, वेजिटेबल जूस और ब्राउन शुगर जैसे हेल्दी ऑप्शन्स को भी ट्राई किया होगा, जो टेस्टलेस होते हैं, लेकिन इन्हें खाने से वजन बहुत जल्दी कम भी हो जाता है। इसी की तरह एक वेटलॉस ऑप्शन है इसबगोल। इसके बारे में आप सभी ने सुना होगा, लेकिन शायद ये नहीं जानते कि वजन घटाने में यह कितनी प्रभावी है। इसे आमतौर पर इसबगोल की भूसी के नाम से जाना जाता है।
कहने को यह बेस्वाद है, लेकिन सदियों से सफेद रंग की इसबगोल का उपयोग कब्ज, दस्त या पेट में होने वाली समस्या से छुटकारा पाने के लिए किया जाता रहा है। इतना ही नहीं वजन घटाने में भी यह बहुत कारगार साबित हुई है। दरअसल, इसमें 70 प्रतिशत घुलनशील फाइबर और 30 प्रतिशत अघुलनशील फाइबर होता है। इसका सेवन करने से पाचन धीमा होता है और काफी देर तक भूख नहीं लगती। जिससे वजन कम करने में बहुत मदद मिलती है। तो आइए जानते हैं इसबगोल की भूसी वजन कम करने में कैसे फायदेमंद है और इसका सेवन कब और कैसे करना चाहिए।
​इसबगोल क्या है

इसके गुणों के बारे में जानने से पहले हम आपको इसकी सामग्री से ठीक से परीचित कराते हैं। साइलियम हस्क को इसबगोल के नाम से जाना जाता है। यह एक घुलनशील फाइबर है, जो प्लांटैगो ओवाटा के पौधों के बीजों की भूसी से मिलता है। यह आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला लेक्सेटिव है और कब्ज को ठीक करने में मदद करता है। इतना ही नहीं यह आपके पैन्क्रियाज, आंत और दिल के लिए भी अच्छी है।

भूसी आमतौर पर कैप्सूल या पाउडर के रूप में बाजार में मिल जाता है। लोगों द्वारा डाइट्री सप्लीमेंट के रूप में भी इसका उपयोग किया जाता है। यह चिपचिपे यौगिक में बदलने के लिए पानी को बहुत जल्दी अवशोषित करता है, जिससे पाचन की समस्या दूर होती है। इस प्रकार यह ब्लड शुगर लेवल, हाई कोलेस्ट्रॉल और ट्राई ग्लिसराइड को विनियमित करने में भी कारगार है।​
भूसी के साथ वजन कैसे कम होता है
चूंकि भूसी घुलनशील और अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर से भरपूर है, इसलिए खाने के लिए यह एक हेल्दी ऑप्शन है। बता दें कि इसमें मौजूद फाइबर मल त्याग को नियंत्रित करता है और पानी को अवशोषत करके हमारे पेट में एक परत को बनाकर लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है। इसे खाने के बाद काफी देर तक भूख नहीं लगती।
  • भूसी में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है, इसलिए वजन घटाने के लिए यह एक बहुत अच्छा और स्वस्थ विकल्प है। विशेषज्ञ कहते हैं कि कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों के साथ कम कैलोरी का सेवन करना आसान हो जाता है।​
  • साइलियम की भूसी का सेवन जब पानी के साथ किया जाता है, तो इसका आकार दस गुना तक बढ़ जाता है, जिससे पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता है।
  • बार-बार कुछ खाने की इच्छा नहीं होती, ऐसे में वजन को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।​
  • एक साफ कोलोन का मतलब है एक अच्छी गैस्ट्रोइंटेस्टनाइल हेल्थ। भूसी शरीर को बीमारियों से लडऩे में सक्षम बनाती है। यह सहनशक्ति बढ़ाने के साथ व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाने और वजन घटाने में भी कारगार है।​
  • पाचन की समस्या होने पर भूसी एक बहुत अच्छा घरेलू उपचार है। यह पाचन तंत्र में सुधार करने और इम्यूनिटी को मजबूत बनाने के साथ यह फैट को तेजी से जलाती है। वजन कम करने के उपाय के तौर पर भी इसका सेवन करना बहुत फायदेमंद है।

कब और कैसे करें भूसी का सेवन

वयस्क अपनी स्वास्थ्य स्थिति के हिसाब से दिन में एक या दो बार साइलियम की भूसी ले सकते हैं। निगलने से पहले पाउडर को एक गिलास पानी या फलों के रस में मिलाना चाहिए। सबसे अच्छा है कि आप भोजन के बाद इसका सेवन करें। यदि आप किसी स्वास्थ्य स्थिति से पीड़ित हैं या गर्भवती हैं तो इसबगोल की भूसी लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें। वजन घटाने के लिए इसबगोल की भूसी खाते समय पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए । साथ ही इसका ज्यादा सेवन करने से बचें, क्योंकि इससे भारीपन महसूस हो सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज नहीं होगी शाह व सुकांत की बैठक

कोलकाता : आज यानी गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार के साथ बैठक करने वाले थे। हालांकि यह बैठक आगे पढ़ें »

गुजरात में तीसरी राजनीतिक शक्ति बनकर उभरी आप

गुजरात : गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना जारी है। राज्य में पार्टी अभूतपूर्व कामयाबी की तरफ बढ़ती दिख रही है। वहीं आप संयोजक अरविंद आगे पढ़ें »

ऊपर