क्या कोरोना वैक्‍सीन के बाद ब्लड प्रेशर बढ़ना है सामान्य…

कोलकाता : कोरोना की पहली औऱ दूसरी लहर के बाद देश का हाल बेहाल हो चुका है, बीते दिन लाखों लोग इस महामारी के चपेट में आए और हजारों की तादाद में लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। हालांकि दूसरी लहर अब धीरे-धीरे समाप्ति की ओर है। लेकिन वैज्ञानिकों द्वारा अभी तीसरे लहर की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में कोरोना से निपटने के लिए वैक्सीनेशन ही एकमात्र सहारा है। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा दूसरी लहर से निपटने व तीसरी लहर से बचने के लिए वैक्सीनेशन का महाभियान चलाया जा रहा है।

इसके अंतर्गत 18 साल से ऊपर के लोगों को धड़ाधड़ वैक्सीन लगाई जा रही है। वहीं टीका लगने के बाद लोगों में बुखार, मिचली, बदन दर्द और चक्कर जैसे लक्षण देखे जा रहे हैं। विशेषज्ञों द्वारा इन लक्षणों को कोरोना के विरुद्ध शरीर में बनने वाली एंटीबॉडीज के लिहाज से अच्छा माना जा रहा है, जो टीके की प्रभावकारिता की तरफ इशारा करता है। वहीं कुछ लोगों द्वारा टीकाकरण के बाद रक्तचाप में वृद्धि का दावा किया जा रहा है। ऐसे में आइए जानते हैं आखिर इसमें कितनी सच्चाई है और क्या है इसका कारण?

क्या वैक्सीनेशन के बाद हाई ब्लड प्रेशर का अनुभव सामान्य है?

आपको बता दें वैक्सीनेशन के बाद उच्च रक्तचाप का अनुभव करना सामान्य है। स्विट्जरलैंड की एक रिपोर्ट के मुताबिक टीकाकरण के बाद कई लोगों ने उच्च रक्तचाप का अनुभव किया है। भारत में भी ऐसी कई केस स्टडीज सामने आई हैं जिसमें टीकाकरण के बाद लोगों ने हाई ब्लड प्रेशर का दावा किया है।
विशेषज्ञों के मुताबिक उच्च रक्तचाप वैक्सीनेशन का साइडइफेक्ट नहीं है। स्विट्जरलैंड की एक रिपोर्ट के मुताबिक जिन लोगों ने एमआरएनए वैक्सीन की पहली खुराक ली, उनमें टीकाकरण के कुछ मिनट बाद रक्तचाप का स्तर उच्च देखा गया। रिपोर्ट में किए गए मामलों में अधिकांश मरीज 70 साल या इससे अधिक उम्र के पुरुष थे। वहीं आपको बता दें 9 में से 8 लोग पहले से ही उच्च रक्तचाप की समस्या से ग्रस्त थे।
जबकि भारत में इस मामले की ज्यादा जानकारी नहीं है। कई मामले भारत में टीकाकरण के बाद ऐसे सामने आए हैं, जिसमें लोगों ने वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज के बाद उच्च रक्तचाप का अनुभव किया है।

वैक्सीनेशन के बाद रक्तचाप में परिवर्तन का कारण

आपको बता दें टीकाकरण के बाद उच्च रक्तचाप या रक्तचाप की रीडिंग में परिवर्तन कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का साइड इफेक्ट नहीं है। अब तक किए गए नैदानिक परीक्षण और अध्ययन के दौरान कहीं भी इसकी पुष्टि नहीं की गई है। हालांकि विशेषज्ञों के मुताबिक कई लोग वैक्सीन की पहली डोज के दौरान उच्च रक्तचाप का अनुभव कर सकते हैं। जिनमें वैक्सीनेशन के बाद उच्च रक्तचाप की स्थिति देखा गया, उनमें सिर दर्द, सीने में दर्द, चिंता, अवसाद और पसीना आना जैसे लक्षण शामिल थे।
हालांकि इसे एक दुर्लभ दुष्प्रभाव माना जा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक उच्च रक्तचाप की स्थिति लोगों में वैक्सीनेशन की चिंता के कारण भी हो सकती है, यह वैक्सीनेशन का कोई भी साइड इफेक्ट नहीं है। वहीं रक्तचाप की रीडिंग में वृद्धि का एक अन्य कारण ‘व्हाइट-कोट प्रभाव’ से जोड़ा गया है, जिसके कारण अन्य स्थानों की तुलना में रक्तचाप की रीडिंग अपेक्षाकृत अधिक होती है। इसलिए वैक्सीनेशन के बाद ब्लड प्रेशर हाई होने पर आपको चिंतित नहीं होना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हनुमान जी के ऐसे चित्र या मूर्ति के पूजन से पूरी होती है हर मनोकामना, बन जाते हैं रुके हुए काम…

कोलकाता : हनुमान जी की पूजा करने से हर मनोकामना पूर्ण होती है। उनके भक्त उन्हें प्रसन्न करने की हर संभव कोशिश करते हैं। पर आगे पढ़ें »

राज्य में गणतंत्र का घुट रहा है दम : राज्यपाल

शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा विधायक मिले राज्यपाल से सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सोमवार को​ विधानसभा में विपक्षी दल के नेता शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा विधायकों ने राजभवन आगे पढ़ें »

ऊपर