लद्दाख में भारतीय सेना ने किया युद्धाभ्यास, पाक और चीन की उड़ी नींद

army1

नई दिल्‍ली : भारतीय सेना ने मंगलवार को चीन सीमा से सटे लद्दाख में युद्धाभ्यास किया। सेना की युद्धाभ्यास देख पाकिस्तान और चीन के नींद उड़ गए है। चीन के साथ हालिया तनाव के बीच भारत की सेना के तीनों अंगों ने लद्दाख के ऊंचाई वाले इलाकों में जोरदार युद्धाभ्‍यास कर दुश्‍मन को अपनी ताकत का अहसास कराया। इस युद्धाभ्यास में थल सेना, वायुसेना, नौसेना तीनों ने अपना प्रदर्शन ‌दिखाया। सेना ने जमीन से लेकर आसान आसमान तक दुश्मन का जवाब देने के पूरी तरह तैयार है।

इस इलाके में पहली बार हुआ सैन्य अभ्यास

गौरतलब है कि लद्दाख में तीनों सेना ने पहली बार युद्धाभ्यास किया। इस दौरान सेना ने जमीन से लेकर आसमान तक अपना दम दिखाया। इस युद्धाभ्‍यास के दौरान उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह सेना के सभी अंगों के युद्धाभ्यास का हिस्सा बनकर तैयारियों का जायजा लिया। आर्मी कमांडर ने आधुनिक टी-90 भीष्म टैंक की सवारी कर इसकी मारक क्षमता का जायजा लिया। यह टैंक रात के समय भी सटीक गोलाबारी करने की क्षमता रखता है। इसके अलावा रूस में बने टैंकों को भी भारतीय सेना के बेड़े में शामिल करने की प्रक्रिया जारी है। लद्दाख में पाकिस्तान और चीन के सामने खड़ी सेना को मजबूत करना समय की मांग है।

चीनी सेना घुसपैठ की फिराक में

बता दें कि सेना ने टैंक और पैरा कमांडो के साथ इन्फेंट्री ने सुपर हाई एल्टीट्यूड पर खुद को युद्ध के लिए परखा है। सेना ने यहां दिन-रात में लड़ने की रणनीति का अभ्यास किया। चीन के साथ सटे लद्दाख के इस हिस्से के साथ भारतीय सेना के जवानों की इस एक्सरसाइज का रणनीतिक रूप से काफी महत्व है। बता दें कि चीनी सेना लगातार लद्दाख में घुसपैठ की फिराक में है। भारतीय और चीनी सेना कई बार आमने-सामने आ चुके है। इस बीच भारतीय सेना के जवानों ने यह सैन्य अभ्यास कर चीन को सख्त संदेश दिया है कि वो अपनी हद में रहना सीख ले।

शेयर करें

मुख्य समाचार

केरल घूमने गयी थीं 5 बहनें, 3 की सड़क दुर्घटना में मौत

बनगांव : उत्तर 24 परगना के बनगांव से केरल घूमने गयीं 5 बहनों में से 3 की मौत सड़क दुर्घटना में हो गयी। वहीं 2 आगे पढ़ें »

19 में हाफ हुई 21 में साफ हो जायेगी तृणमूल : दिलीप घोष

खड़गपुर : पश्चिम मिदनापुर जिले के नारायणगढ़ विधानसभा के 12 नम्बर तुतरंगा के ठाकुरचक से भाजपा की गांधी संकल्प यात्रा चौथे दिन आगे के लिये आगे पढ़ें »

ऊपर