अगर आप भी शुरू करना चाहते हैं मंगलवार का व्रत तो पहले इन बातों को जान लीजिए

कोलकाता : मंगलवार के व्रत को लेकर ऐसी मान्‍यता है यह बल, साहस, सम्‍मान और पुरुषार्थ को बढ़ाने वाला माना जाता है। इस व्रत को करने से हनुमानजी की प्रसन्‍न होकर हमारे जीवन के सभी संकटों को दूर करते हैं। साथ ही यह भी माना जाता है कि इस व्रत करने से हम सभी प्रकार की बुरी शक्तियों और नेगेटिव एनर्जी से दूर रहते हैं। कभी सोचा है कि हनुमानजी की व्रत मंगल को ही क्‍यों किया जाता है ? आज हम आपको बता रहे हैं कि किस वजह से हनुमानजी की पूजा मंगलवार को की जाती है।
मंगलवार क्‍यों माना जाता है बजरंगबली का दिन ?
पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार और स्‍कंदपुराण में बताए गए प्रसंग के अनुसार मंगलवार को बजरंगबली का जन्‍म हुआ था। इस वजह से ही उनकी पूजा के लिए यह दिन समर्पित होता है और उनका व्रत करने से जीवन से सभी प्रकार के कष्‍ट और संकट दूर होते हैं। इसी वजह से हनुमानजी को संकटमोचक भी कहा जाता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि मंगल ग्रह का संबंध भी हनुमानजी से होता है तो इस वजह से भी मंगलवार को हनुमानजी की पूजा की जाती है। इस दिन उपवास करने और सुंदरकांड का पाठ करने से मंगल के अशुभ प्रभाव भी दूर होते हैं।
मंगलवार के व्रत में करें इन नियमों का पालन
-मंगलवार के व्रत में सबसे ज्‍यादा ध्‍यान पवित्रता का रखा जाता है।
-पूजा के वक्‍त मन को इधर-उधर न भटकने दें। शांत मन से प्रभु का ध्‍यान करें।
-मंगलवार के दिन व्रत रखते हैं तो नमक का सेवन न करें। इसके साथ ही अगर किसी मीठी वस्‍तु का दान करते हैं तो उसे स्‍वयं ग्रहण न करें।
-मंगलवार के व्रत में भूलकर काले या सफेद वस्‍त्र पहनकर हनुमानजी की पूजा न करें। इस दिन लाल कपड़े पहनना सबसे अच्‍छा होता है।
-व्रत रखने वाले व्‍यक्ति को दिन भर में केवल एक बार भोजन करना चाहिए।
व्रत का आरंभ कब से करें
यदि आप रखना चाहते हैं मंगलवार का व्रत तो इसका आरंभ किसी भी महीने के शुक्‍ल पक्ष के पहले मंगलवार से करना सबसे अच्‍छा माना जाता है। यदि मन में कोई मनोकामना लेकर आप यह व्रत शुरू करना चाहते हैं तो 21 या 45 मंगलवार व्रत करने का संकल्‍प लेना चाहिए। ऐसा करने से आपके मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। 21 या 45 मंगल व्रत करने के बाद आपको उद्यापन करना चाहिए। इस दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाने के साथ ही दान पुण्‍य भी करना चाहिए।
क्‍या महिलाएं कर सकती हैं यह व्रत
महिलाओं के मन में हनुमानजी की पूजा को लेकर अक्‍सर संदेह बना रहता है। लेकिन पुराणों में बताया गया है कि महिलाएं भी बजरंगबली की पूजा कर सकती हैं और व्रत रख सकती हैं। किसी ग्रंथ में यह नहीं लिखा है कि महिलाओं को हनुमानजी की पूजा नहीं करना चाहिए। बस महिलाओं द्वारा हनुमानजी को लाल वस्‍त्र या फिर चोला नहीं चढ़ाया जाना चाहिए, क्‍योंकि वह आजीवन ब्रह्मचारी थे। महिलाओं को मासिक धर्म के बीच में मंगलवार पड़े तो व्रत नहीं करना चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मौसंबी से चेहरा बनेगा खूबसूरत, पिंपल्स समेत ये समस्याएं होंगी दूर

कोलकाता : अगर आप चाहती हैं कि चेहरे के दाग-धब्बे हमेशा के लिए गायब हो जाएं तो ये खबर आपके काम आ सकती है। क्योंकि आगे पढ़ें »

टैक्सी संगठन ने 12 व 13 अगस्त को हड़ताल का किया आह्वान

शरद पवार आज दिल्ली में ममता बनर्जी से कर सकते हैं मुलाकात

कोरोना वैक्सीन को लेकर एनआरएस व आईएसआई के सर्वे में बड़ा खुलासा

करियर की समस्या नहीं छोड़ रहीं पीछा? ये आसान उपाय दिलाएंगे मनचाही सफलता

सावन में बुधवार का दिन भी होता है बेहद खास, ये 5 उपाय दिखाएंगे कमाल

बड़ी खबरः राज्य में कोविड के बीच बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस

कितनी देर तक करना चाहिए सेक्स, ताकि हो सुखद अहसास और रोमांच

सोने की स्थिति का सेहत पर पड़ता है प्रभाव, ऐसे सोने से ठीक हो सकते हैं खर्राटे और पीठ का दर्द

बड़ाबाजार में बस की चपेट में आने से यात्री की मौत

ऊपर