कम वक्त में बनना चाहते हैं अमीर, तो…

कोलकाता : जिंदगी में हर मनुष्य चाहता है कि उसके पास खूब धन-दौलत हो, उसकी सेहत सबसे अच्छी हो। उसके घर में किसी चीज की कमी न हो और समाज में उसका खूब मान-सम्मान हो लेकिन ये सब इच्छाएं हर किसी की पूरी नहीं हो पाती। अगर आप चाहते हैं कि ये सब चीजें आपको मिल जाएं तो आज हम आपको मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का अचूक उपाय बताते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार रोजाना 5 विशेष कार्य से मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर अपने जातकों पर खूब कृपा बरसाती हैं।
तुलसी के पौधे पर जलाएं घी का दीपक
आपके घर में तुलसी का पौधा तो जरूर होगा। इस पौधे में मां तुलसी का वास माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है कि अगर आप रोजाना सुबह-शाम तुलसी के पौधे पर घी का दीपक जलाकर उसकी पूजा करते हैं तो मां लक्ष्मी प्रसन्न होकर परिवार की सब इच्छाएं पूरा कर देती हैं।
भोजन करते वक्त पूर्व दिशा में रखें मुंह
ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक आप जब भी भोजन करें तो कोशिश करें कि आपका मुंह पूर्व दिशा में हो। यह दिशा सूर्य देव को समर्पित और शुभ मानी जाती है। भोजन करते वक्त आप भूलकर भी अपने पैरों में चप्पल न पहनें वरना मां अन्नपूर्णा नाराज हो सकती हैं।
ईशान कोण में करें गंगाजल का छिड़काव
घर का ईशान कोण सबसे शुभ माना जाता है। ऐसे में नकारात्मक शक्तियां इस हिस्से पर कब्जा करने के लिए प्रवेश करने की कोशिश करती रहती हैं। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार ऐसी बुरी शक्तियों को घर से दूर रखने के लिए आप नियमित रूप से ईशान कोण में गंगाजल का छिड़काव जरूर करते रहें।
रोजाना सुबह उठते ही देखें अपनी हथेली
अगर आप कम समय में धनवान बनना चाहते हैं तो सुबह उठते ही सबसे पहले अपनी हथेलियों को देखने की आदत डालें। इसके साथ ही ‘कराग्रे वसते लक्ष्मी’ मंत्र का जाप करें। मान्यता है कि ऐसा करने से मां सरस्वती और मां लक्ष्मी दोनों प्रसन्न होती हैं और जातक पर अपनी कृपा बरसाती हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कल कांथी में होगी अभिषेक बनर्जी की सभा, एक लाख लोगों की भीड़ जुटाने का लक्ष्य

पूर्व मिदनापुर : पूर्व मिदनापुर जिले के कांथी में 3 दिसंबर को होने वाली अभिषेक बनर्जी की जनसभा में टीएमसी की ओर से करीब एक आगे पढ़ें »

कांथी में अभिषेक की रैली को मिली हाई कोर्ट से मंजूरी

जस्टिस मंथा ने लगायी इसके साथ कुछ शर्तें भी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस राजाशेखर मंथा ने यह कहते हुए कि प्रत्येक राजनीतिक दल आगे पढ़ें »

ऊपर