शनिदेव की टेढ़ी नजर से बचना है, तो करें ये उपाय

कोलकाता : हिंदू धर्म में शनिवार का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। यह दिन शनिदेव को समर्पित माना जाता है। इस दिन शनिदेव की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है। मान्यता है कि शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करने और व्रत रखने से उनकी विशेष कृपा प्राप्त होती है। उनके आशीर्वाद से आपके जीवन में खुशियां बनी रहेंगी। ऐसे में शनिवार के दिन कुछ विशेष उपाय करके आप शनिदेव को खुश कर सकते हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको शनिवार के दिन किए जाने वाले कुछ छोटे-बड़े उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं। तो आइये जानते हैं…
शनिवार को करें ये उपाय
1. इस दिन सुबह स्नान कर साफ-सुथरे कपड़े पहनें। इसके बाद शनिदेव की पूजा करें।
2. शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इस दीपक में काला तिल जरूर डालें।
3. पीपल के पेड़ की सात बार परिक्रमा करें। इस दौरान ऊं शं शनैश्चराय नम: मंत्र का जाप करें।
4. शनिवार की शाम को पीपल के पेड़ के नीचे चौमुखी दीपक जलाएं। मान्यता है कि इससे घर में धन, यश और वैभव की कमी नहीं होती है। इसके साथ ही शनिदेव की कृपा बनी रहती है।
5. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, अगर आपको व्यापार में कोई लॉस हो रहा है या कोर्ट-कचहरी के चक्करों से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इस दिन पीपल के 11 पत्तों से एक माला बना लें। इसके बाद ये माला मंदिर में जाकर शनि देव को चढ़ाएं। माला अर्पित करते समय ‘ऊँ श्रीं ह्रीं शं शनैश्चराय नमः’ मंत्र का लगातार जाप करते रहें।
6. काले कुत्ते को सरसों के तेल लगी रोटी खिलाएं। माना जाता है इससे कुंडली में राहु-केतु से संबंधित दोष दूर हो जाते हैं।
7. इस दिन सरसों के तेल का दान करना चाहिए। इसके अलावा उड़द की दाल, तिल, लोहा, पुखराज रत्न और काले कपड़ों का दान कर सकते हैं। ऐसा करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं। अपने भक्तों की मनचाही मुरादों को पूरा करते हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर