…अगर आपको चाहिये अच्छी नींद तो ये खबर आपके लिये

कोलकाता : आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में अनिद्रा की समस्या बहुत आम है। लेकिन इस बीमारी को हल्के में नहीं लेना चाहिए। क्योंकि कुछ समय बाद ये बीमारी और भी बीमारियों को जन्म देने लगती है। आज हम आपको इंसोमनिया यानी अनिद्रा से बिना दवाईयां खाएं छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपाय बताने जा रहे हैं।
क्या होती है अनिद्रा
इसका मतलब है कि आप अपने बिस्तर पर लेटे हैं और कई घंटो तक आपको नींद नहीं आती या नींद आने के कुछ घंटो बाद नींद उचट जाती है और दोबारा नींद नहीं आती। नींद ने आने से उच्च रक्तचाप, कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर, डायबिटीज व अन्य बीमारियां भी होने लगती हैं।
क्यों होती है अनिद्रा
दौड़भाग, फास्टफूड और टेंशन ये सब अनिंद्रा के कारण हैं। इसके अलावा मानसिक रूप से परेशान लोग भी अनिंद्रा का शिकार होते हैं।
अनिद्रा के घरेलू उपचार
– जब आप बेड पर आएं तो मोबाइल का इस्तेमाल बिल्कुल न करें। देर रात तक लैपटॉप या टीवी पर फिल्में देखने से भी नींद न आने की समस्या होती है।
– जो लोग अनिद्रा के शिकार हैं उन्हें अपने बेड पर साफ बेजशिट और साफ पिलो कवर रखने चाहिए। इससे आपको नींद आ जाएगी।
रोजाना बेड पर जाने से पहले आधे घंटे की वॉक करें। इससे आपको नींद आने में मदद मिलेगी।
– खाना खाने के तुरंत बाद बेड पर न जाएं और न हीं बेड पर खाना खाएं।
– जॉगिंग, स्विमिंग या एरोबिक जैसे व्यायाम की आदत डाल लें। ऐसा करने से आपको थकने बाद अच्छी नींद आएगी।और नींद बीच में खुलेगी भी नहीं।
– अपना पूरा ध्यान घड़ी की तरफ न रखें। घड़ी को अपनी नजर से दूर ही रखें। बार बार घड़ी देखने से भी नींद खराब होती है।
-अनिद्रा का शिकार होने पर एक या दो हफ्ते तक अपने नींद के पैटर्न को ट्रैक करें।
– सोने से 4 घंटे पहले तक कैफीनयुक्त (चाय, कॉफी, चॉकलेट) न खाएं।
– ज्यादा अल्कोहल न लें और सोने से दो घंटे पहले तो बिल्कुल न लें।
– अगर आपका दिमाग किसी टेंशन में है, तो दिमाग को शांत करने के लिए मेडिटेशन करें, गहरी सांस लें तब आपको नींद आ जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज ऐसे करें मां कात्यायनी की पूजा, जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

कोलकाताः नवरात्रि के पर्व का 18 अप्रैल को छठवां दिन है। नवरात्रि का छठा दिन मां कात्यायनी को समर्पित है। पंचांग के अनुसार 18 अप्रैल आगे पढ़ें »

रविवार को इस विधि से करें सूर्य देव की पूजा, बढ़ेगा मनोबल

कोलकाताः रविवार के दिन सूर्य देव की पूजा का विधान है। हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य देव प्रत्यक्ष रूप से दर्शन देने आगे पढ़ें »

ऊपर