पैसो की तंगी से जूझ रहे है तो शुक्रवार के दिन करें ये आसान उपाय

कोलकाता : आज हर कोई धन-धान्य के लिए चितिंत और परेशान रहता है। उनकी चिंता का उपाय माता लक्ष्मी की उपासना से दूर हो सकती है। दरअसल धन की देवी मां लक्ष्मी की आराधना के लिए शुक्रवार का दिन विशेष होता है। मान्यता है कि इस दिन मां लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा करने से जीवन में धन-धान्य की कोई कमी नहीं रहती है। इसलिए इस दिन कुछ विशेष उपायों को करके मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त की जा सकती है।
लाल रंग है मां को प्रिय
शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी को लाल वस्त्र, लाल बिंदी, लाल चुनरी और लाल चूड़ियां अर्पित करना बहुत ही शुभ माना जाता है। इसी तरह मां की विशेष कृपा पाने के लिए हाथ में पांच लाल रंग के फूल लेकर माता का ध्यान करें। इसके बाद माता लक्ष्मी को प्रणाम करते हुए उनसे सुख समृद्धि की प्रार्थना करें। इसके बाद इन फूलों को तिजोरी या अलमारी में रख दें।
इस मंत्र का करे जाप
शुक्रवार के दिन धन प्राप्ति के लिए एक लाल रंग का कपड़ा लें और इसमें सवा किलो साबुत चावल रखें। फिर चावल की पोटली बनाकर उसे हाथ में लेकर ओम श्रीं श्रीये नमः मंत्र की पांच माला जाप करें। फिर इस पोटली को घर की तिजोरी या जिस स्थान पर धन रखते हैं वहां रख दें। कहते हैं कि ऐसा करने से धन प्राप्ति के योग बनते हैं।
यह उपाय भी लाभकारी
शुक्रवार के दिन शाम के समय गाय के घी का दीपक घर के ईशान कोण में जलाने से पैसों से संबंधित परेशानियां दूर की जा सकती हैं। इस दीपक में थोड़ा सा केसर डालें और रूई की जगह पर लाल रंग के सूती धागे का प्रयोग करें।
इससे भी मिल सकता है लाभ
शुक्रवार के दिन एक उपाय ये भी कर सकते हैं, एक पीला कपड़ा लें उसमें पांच पीले रंग की कौड़ी, थोड़ा सा केसर और सिक्के डालें। इन सब को एक कपड़े में बांधकर तिजोरी में या गल्ले में रख दें। ऐसा माना जाता है कि इसके प्रभाव से कुछ ही दिनों में धन संबंधी सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

आईएएस कैडर के नियमों में बदलाव पर ममता ने फिर पीएम को लिखा पत्र

कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आईएस कैडर (अब IAS कैडर रूल ) में प्रस्तावित बदलाव के फैसले पर आगे पढ़ें »

ऊपर