सपने में आते हैं गुजरे हुए परिजन, इसके पीछे छिपा है ये गहरा रहस्‍य

कोलकाता : पितृ पक्ष शुरू हो चुका है। पितृ पक्ष के ये 15 दिन बहुत अहम होते हैं। हिंदू धर्म में ऐसी मान्यताएं भी हैं कि श्राद्ध पक्ष में हमारे पूर्वज धरती पर हमें आशीर्वाद देने के लिए उतरते हैं। कई लोगों को अपने पूर्वजों के आस-पास होने का आभास भी होता है। जबकि कुछ लोगों को सपने में पितर दिखाई देते हैं। इस बार पितृपक्ष 20 सितंबर से 6 अक्टूबर तक रहने वाले हैं। आइए आपको बताते हैं कि अगर सपनो में पूर्वज दिखाई दें तो इसका क्या मतलब होता है।
पूर्वजों का आशीर्वाद है जरूरी : ज्ञानी पंडितों का मानना है कि श्राद्ध पक्ष में दान-पुण्य से प्रसन्न होकर हमारे पूर्वज सपने में आशीर्वाद देने के लिए आते हैं। उनका आना इस बात की ओर इशारा करता है कि उन्होंने आपके श्राद्ध को स्वीकार कर लिया है। सपने में पूर्वज भोजन को स्वीकार करने के बाद आपको सम्‍पन्‍नता और सफलता का आशीर्वाद देते हैं।
दान-पुण्य से खुश होंगे पूर्वज : कई लोगों के सपने में आकर पूर्वज कोई वस्तु मांगते हैं। इसका मतलब है कि वह भूखे हैं और आपको कोई संकेत दे रहे हैं। पंडितों के अनुसार पूर्वजों द्वारा मांगी गई वस्तु का पूरी श्रद्धा से दान करना चाहिए।
क्या कहता है गरुड़ पुराण? : गरुड़ पुराण में कहा गया है कि किसी मृत परिजन का सपने में दिखाई देने का अर्थ है कि उनकी आत्‍मा अब भी भटक रही है। आत्‍मा की शांति के लिए घर में रामायण या गीता का पाठ करें। ऐसा करने से आपके पूर्वजों की आत्‍मा को शांति मिलेगी।
परिवार से मोह : कई लोगों के सपने में उनके पूर्वज हमेशा घर के पास दिखाई देते हैं। ये इस बात का संकेत हो सकता है कि उनका परिवार के लिए मोह खत्म नहीं हुआ है। पंडितों के अनुसार ऐसा आभास होने पर गाय को रोजाना दो रोटी खिलानी चाहिए। अमावस्‍या के दिन भोग लगाना चाहिए। इससे पितृों का आशीर्वाद बना रहता है।
पूर्वज देते हैं संकेत : मान्‍यता है कि पितृ पक्ष में पूर्वज धरती पर आकर परिवार को देखकर प्रसन्‍न होते हैं और उन्हें अपना आशीर्वाद देकर जाते हैं। सपने में अगर किसी परिजन की मृत्यु दिखाई दे तो माना जाता है कि आने वाले वक्‍त में आपको कोई शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

विश्वविद्यालयों में तैयारी है पूरी, वाइस चांसलर्स ने फैसले का किया वेलकम

* 20 महीने बाद खुलने जा रहे हैं स्कूल, कॉलेज व विश्वविद्यालय * फिलहाल कैंटीन रहेगी बंद, भीड़भाड़ की नहीं होगी अनुमति * कॉलेज - यूनिवर्सिटी के आगे पढ़ें »

ऊपर