2028 ओलंपिक तक भारत शीर्ष दस में नहीं आता तो मैं खेलमंत्री के रूप में विफल : रीजीजू

rijiju

नई दिल्ली : खेलमंत्री किरन रीजीजू ने गुरूवार को 2028 में होने वाले ओलंपिक को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि उस ओलंपिक में भारत अगर पदक तालिका में शीर्ष दस में नहीं आता तो खेल मंत्री के रूप में वह नाकाम रहेंगे। रीजीजू ने कहा कि भारत कुछ साल में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा और खेलों में भी वह पीछे नहीं रह सकता। उन्होंने कहा,‘‘ हमारा देश 2022 या 2024 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जायेगा। हम अगले चार पांच साल में कई क्षेत्रों में शीर्ष तीन में रहेंगे। ओलंपिक में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने का कोई कारण नहीं है।’’

अगर ऐसा नहीं हुआ तो खेलमंत्री रहने का कोई फायदा नहीं

उन्होंने यहां तोक्यो ओलंपिक 2020 में इंडिया हाउस के लोगो के अनावरण के मौके पर कहा,‘‘2020 ओलंपिक करीब है लेकिन 2024 या 2028 तक भारत पदक तालिका में शीर्ष 10 में पहुंच जायेगा। भारत अगर ऐसा नहीं कर सका तो मेरे खेलमंत्री रहने का कोई फायदा नहीं।’’ खेलमंत्री ने आईओए से यह सुनिश्चित करने को कहा कि राष्ट्रीय खेल महासंघों में प्रशासन का स्तर आला रहे। उन्होंने यह भी ताकीद की कि किसी अधिकारी या कोच के कारण किसी खिलाड़ी का कैरियर बर्बाद नहीं होना चाहिये।

खेल प्रबंधन में अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जायेगी

रीजीजू ने कहा,‘‘ खेल प्रबंधन में अनियमितता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। हमें निकट भविष्य में खेल की महाशक्ति बनना है तो यह बहुत जरूरी है। आईओए और एनएसएफ को प्रशासन का स्तर ऊंचा रखना होगा। मैं आईओए की कार्यप्रणाली से खुश हूं।’’ उन्होंने कहा,‘‘ यदि किसी खिलाड़ी का कैरियर प्रबंधन में किसी व्यक्ति के अहंकार के कारण बर्बाद होता है तो सरकार इसे बर्दाश्त नहीं करेगी। हमारा रवैया खिलाड़ी और खेल प्रधान है।’’ उन्होंने इस दौरान ये भी कहा कि भारत 2028 ओलंपिक में कबड्डी को शामिल कराने की कोशिश करेगा

शेयर करें

मुख्य समाचार

Twitter

ट्विटर ने कहा-विश्व के नेताओं के अकाउंट को नियमों से पूरी तरह छूट नहीं

सैनफ्रांसिस्को : ट्विटर ने कहा है कि विश्व के नेताओं को इसके उन प्रतिबंधों से पूरी तरह छूट नहीं है, जिसमें उपयोगकर्ता हिंसा की धमकी आगे पढ़ें »

Mahatma Gandhi

विश्वविद्यालय के छात्रों ने मैनचेस्टर में गांधी की मूर्ति लगाये जाने का विरोध किया

लंदन : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाये जाने के प्रस्ताव के खिलाफ ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर एक आगे पढ़ें »

ऊपर