पति-पत्‍नी को नहीं करना चाहिए एक थाली में भोजन! तबाह हो सकता है परिवार

कोलकाताः आजकल कई घरों में पति-पत्‍नी एक साथ एक ही थाली में भोजन करते हैं। पति-पत्‍नी के आपसी प्‍यार को बढ़ाने की नजर से देखें तो यह बात सही लग सकती है लेकिन धर्म-शास्‍त्रों और व्‍यवहारिक दृष्टि के लिहाज से इसे सही कहना उचित नहीं होगा। दरअसल, ऐसा करने से परिवार में झगड़े-विवाद बढ़ सकते हैं और कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। यहां तक कि महाभारत में भी भोजन और भोजन की थाली को लेकर भीष्‍म पितामह ने कुछ जरूरी बातें बताई हैं। इसमें पति-पत्‍नी के एक साथ भोजन करने की बात भी शामिल है।

सही-गलत की खो जाती है पहचान 

भीष्‍म पितामह जब बाणों की शैय्या पर थे, तब उन्‍होंने सफल, सुखद और धर्मपरायण जीवन जीने को लेकर पांडवों को कई अहम बातें बताई थीं। इसमें भोजन से जुड़ी बातें भी शामिल है। इसके मुताबिक पति-पत्नी को एक थाली में भोजन करने से मना किया गया है। अक्‍सर बड़े-बुजुर्ग भी ऐसा करने से मना करते हैं।

दरअसल, इसके पीछे कारण यह है कि एक थाली में भोजन करने से पति का पत्‍नी के लिए प्रेम इतना बढ़ जाता है कि वह अपनी बाकी जिम्‍मेदारियां और दायित्‍व भूल जाता है। उसके जीवन में पत्‍नी का स्‍थान ही सर्वोपरि हो जाता है और वो बाकी रिश्‍तों को महत्‍व देना भूल जाता है। ऐसे में वह सही-गलत की पहचान भी खो देता है और यह स्थिति उसे पारिवारिक विवाद, नुकसान में डाल सकती है। इसलिए पति-पत्‍नी को अलग-अलग थाली में ही भोजन करना चाहिए।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

आटा के बाद अब चावल भी महंगा…

नई दिल्ली : गेंहू के दामों में उछाल के बाद अब चावल  के दामों में तेजी देखी जा रही है, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार में आगे पढ़ें »

ऊपर