गर्मियों में चेहरे से कैसे हटाएं काले दाग…

कोलकाता : भारत में गर्मियों का कहर धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है, ऐसे में चेहरे स्किन का ख्याल रखने की काफी जरूरत होती हैं। गर्मियों में पसीने के कारण त्वचा पर काफी इरिटेशन होती हैं। इसके कारण स्किन पर दाग और पिंपल भी हो जाते हैं। साथ ही सेंसिटिव स्किन वालों को गर्मियों के दौरान कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गर्मियों में रेडनेस, रैश और दाने निकलना आम है। इन सभी दिक्कतों से बचने के लिए लोग अक्सर बाजार के कई महंगे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन फिर भी कोई असर नहीं पड़ता। ऐसे में हम आपको आज एक ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं जिससे आप गर्मियों में हेने वाली स्किन की सभी परेशानियों से बच सकती हैं। तुलसी-पुदीने से बनाएं आइसक्यूबगर्मियों में स्किन पर आइसक्यूब्स लगाना काफी अच्छा साबित होता है। ऐसे में आप स्किन पर पोटेटो के आइसक्यूब्स लगा सकते हैं। इसके अलावा पुदीने और तुलसी के आइसक्यूब्स भी काफी फायदेमंद होते हैं। अगर आपकी स्किन ऑयली है तो आप पोटेटो के आइसक्यूब्स स्किन पर ना लगाएं।

आइसक्यूब की सामग्री

तुलसी की पत्तियां

पुदीने की पत्तियां

गुलाब जल

पानी

कैसे तैयार करें आइसक्यूब?

एक कप पानी लीजिए और उसमें 6-7 तुलसी और 6-7 पुदीने की पत्तियों को भिगो दीजिए। थोड़ी देर बाद इसे अच्छे से धो लीजिए और क्रश कर लीजिए।आप चाहें तो इनका पेस्ट भी बना सकती हैं। अब 1 कप पानी में क्रश की हुई पत्तियों को डालिए और इसे आपको उबालना है। कम से कम 1 उबाल आने तक इसे गैस पर रखें और उसके बाद इसे ठंडा होने दें.।जब ये ठंडा हो जाए तो इसमें गुलाब जल मिलाएं और आइस ट्रे में इन्हें रखकर जमने के लिए छोड़ दें।

ऐसे करें आइसक्यूब का इस्तेमाल

इसके लिए रोज़ एक आइसक्यूब निकाल कर अपने चेहरे पर सर्कुलर मोशन में रगड़ना है। अगर आपकी स्किन सेंसिटिव है और सीधे आइसक्यूब्स चेहरे पर नहीं लगा सकती हैं तो आप उसे कॉटन के रुमाल में लपेट कर लगा सकती हैं।

Visited 193 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

वर्क आउट के दौरान नो लाउड म्यूजिक

एक्सरसाइज करते समय ज्यादातर यंगस्टर्स लाउड म्यूजिक सुनना पसंद करते हैं। पार्क हो या जिम सेंटर, दोनों जगह पर म्यूजिक के साथ वर्क आउट एंज्वॉय आगे पढ़ें »

सोमवार को विधि-विधान से करें भगवान शिव की पूजा, 4 बातों का रखे …

कोलकाता : हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा का बहुत महत्व है। शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव जितने भोले हैं, उतने ही गुस्‍से वाले आगे पढ़ें »

ऊपर