ऐसी टिप्पणियों से कैसे निपटें ?

 

टिप्स : “क्या अब तुम यह खा सकते हो ? यह क्या अब तुम्हें यह खाने की छूट है?” जब ऐसी टिप्पणियां आती हैं तो आपका परिवार और आपके दोस्त अच्छी तरह इसका अभिप्राय जानते हैं।
– अपनी भावनाएं पहचानें-डायबिटीज के साथ एडजस्ट करने का मतलब इससे जुड़ी मुश्किल भावनाओं का सम्मान करना है। अपनी देखभाल के दबाव तथा जीवनशैली में आये बदलाव के बारे में आप कैसा महसूस करते हैं।
– परिवार और दोस्तों की भावनाओं का सम्मान करें-आपका परिवार और आपके दोस्त भी आपके डायबिटीज के साथ एडजस्ट कर रहे हैं। वह उन्हें भी प्रभावित कर रहा है। वे उत्सुकता महसूस कर सकते हैं, डरा हुआ महसूस कर सकते है, दोषी या भाव विह्वल महसूस कर सकते हैं।
– सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाएं- अपने नजरिये को बदलिए। यदि आपको किसी की टिप्पणी पर गुस्सा आ रहा हो तो पहले अपनी भावनाओं पर कुछ क्षण के लिए विचार कीजिए, उसके बाद सामने वाले व्यक्ति की भावनाओं को सम​झिए। उसके बाद स्थिति को सकारात्मक दृष्टि से समझिए। उदाहरण के लिए आप यह कह सकते हैं, “मुझे याद दिलाने के लिए शुक्रिया। मुझे पता है कि आप मेरी मदद करना चाहते हैं। मैंने इस आहार में अतिरिक्त कैलरी तथा कार्बोहाइड्रेट से मुकाबला करने के लिए पहले से ही अपने इंसुलिन (या व्यायाम) के साथ तालमेल बैठाने की योजना बना ली है।”
– परस्पर संवाद करने की कला विकसित कीजिए-पुराने विचार और संवाद की शैली को बदलिए। आहार एवं डायबिटीज के मसलों पर नये ढंग से बातचीत की​जिए।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद के तैराक ने सोनू सूद के नाम से शुरू की ऐंबुलेंस सेवा

अभिनेता ने किया उद्धाटन हैदराबाद : अभिनेता सोनू सूद ने हैदराबाद निवासी तैराक शिवा द्वारा उनके नाम से शुरू ऐंबुलेंस सेवा का उद्घाटन किया है। शिवा आगे पढ़ें »

बच्ची को पालने के लिए रोज 30 फीट ऊंचे पेड़ों पर चढ़ती है ये मां ..

कोलकाता / तेलंगाना : हालत कब किसी इंसान को कहां से कहां पहुंचा दें इस बात का कुछ नहीं पता चलता। पर इंसान हर हालात आगे पढ़ें »

ऊपर