कुछ इस तरह रखें अपने प्राइवेट पार्ट की सफाई का ख्याल

कोलकाताः हम अपनी कॉमन ब्यूटी और हेल्थ की दिक्कतें जिस तरह आपस में एक- दूसरे से शेयर कर लेते हैं, उसी तरह से अपनी सेक्सुअल हाईजीन यानि कि अपने प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई से जुड़ी बातें करने में आज भी हिचकिचाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि एक लड़की को अपनी बेहतर सेहत के लिए अपनी सेक्सुअल हेल्थ और वैजाइना यानि कि योनि की साफ-सफाई से जुड़ी बातें जानना कितना जरूरी है। खासतौर पर जिन लड़कियों की शादी होने वाली है या फिर जो शादीशुदा हैं, उन्हें तो अपनी सेक्सुअल हाईजीन का ख्याल रखना बेहद ही जरूरी है।
दरअसल, हाईजीन का मतलब है स्वस्थ रहने का तरीका। वीमेन प्राइवेट पार्ट में गदंगी की अनदेखी से आपको शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं, यही नहीं आप किसी संक्रामक बीमारी की चपेट में भी आ सकते हैं। आइए जानते हैं प्राइवेट पार्ट की साफ-सफाई कैसे करनी चाहिए और फीमेल प्राइवेट पार्ट से जुड़ी किन-किन बेसिक हाईजीन की बातों का ध्यान रखना चाहिए।
क्यों जरूरी है प्राइवेट पार्ट की हाईजीन ?
चाहे पुरुष हो या महिला, हर किसी के लिए प्राइवेट पार्ट की सफाई जरूरी होता है। लेकिन फीमेल प्राइवेट पार्ट की सफाई का ख्याल रखना ज्यादा ही जरूरी होता है। क्योंकि महिलाओं के योनि का द्वार बड़ा और खुला होता है, इसीलिए इंफेक्शन होने का खतरा ज्यादा रहता है। खासतौर पर पीरियड के दौरान योनि में संक्रमण खतरा बढ़ जाता है, इसीलिए सही सेनेटरी पैड्स इस्तेमाल करने व उन्हें टाइम-टाइम पर चेंज करने की सलाह दी जाती है। प्राइवेट पार्ट की सफाई के प्रति लापरवाही के कारण अक्सर महिलाओं को वेजाइनल इंफेक्शन के कारण प्राइवेट पार्ट में जलन, खुजली की समस्या हो जाती है। महिलाओं को अपने जीवन में कभी न कभी इस दर्दनाक स्थिति का सामना करना ही पड़ जाता है। बहुत अधिक खुजली, जलन, दर्द और डिस्चार्ज वैजाइनल इन्फेक्शन के आम लक्षण हैं। वैसे तो इस समस्या का निदान आसानी से किया जा सकता है लेकिन फिर भी वैजिनल इन्फेक्शन होने की वजह से महिलाओं को बहुत असहज महसूस होने लगता है और इसके कारण उन्हें अपने दैनिक कार्य करने में भी दिक्कत आती है।
प्राइवेट पार्ट के हेयर रिमूव करते समय
प्यूबिक हेयर यानि कि फीमेल प्राइवेट पार्ट के बाल हमेशा साफ रखने चाहिए। क्योंकि ऐसा न करने से बैक्टीरियल इंफेक्शन या उस जगह दाने हो सकते हैं। ध्यान रखें कि आप अगर शेवर से बाल हटा रही हैं तो वो साफ होना चाहिए और अगर किसी क्रीम से तो वो पुरानी नहीं होनी चाहिए। नहीं तो आपको इंफेक्शन हो सकता है। अगर आप पार्लर से बिकनी वैक्स करा रहे हैं तो वहां की बेसिक हाईजीन जरूर चेक कर लें।
सेक्शुअल हाइजीन टिप्स
साफ-सफाई का महत्व हमें बचपन से ही सिखाया जाता है। लेकिन आज भी हमारे देश में सेक्शुअल हाइजीन के बारे में बात नहीं होती है। हालांकि सेक्शुअल हाइजीन भी उतनी ही जरूरी है, जितनी दूसरी तरह की साफ-सफाई। क्योंकि सेक्शुअल हाइजीन को इग्नोर करने से कई तरह के गंभीर संक्रमण और सेक्शुअल प्रॉब्लम्स तक हो सकती हैं। इससे आपकी सेक्स लाइफ तक प्रभावित हो सकती है। यदि आपको अपनी और अपने पार्टनर की सेहत का ख्याल है, तो सेक्सुअल हाइजीन से जुड़ी इन बातों को ध्यान में जरूर रखें और लोगों को भी एजुकेट करें।

सेक्स से पहले अगर आपको बाथरूम जाने की जरूरत महसूस होती है तो भूलकर भी इसे रोकें नहीं। क्योंकि ऐसा करने से ब्लैडर में मौजूद बैक्टीरिया निकल जाते है और इंफेक्शन की आशंका नहीं रहती है। अपने पार्टनर को ये बताना चाहिए कि वो सेक्स के बाद अपने प्राइवेट पार्ट्स को धोते समय फोरस्किन को हटा कर धोएं। इससे अंदर जमे स्पर्म से इंफेक्शन का खतरा नहीं रहता है। वैजाइना के आसपास ज्यादा परफ्यूम लगाने से या सेक्स के दौरान ल्यूब्रीकेंट्स का इस्तेमाल करने की वजह से एलर्जी होने की आशंका बढ़ जाती है जिससे वैजाइनल डिस्चार्ज होने की आशंका बढ़ जाती है। लड़कियों के प्राइवेट पार्ट का pH एसिडिक होता है जबकि लड़कों का pH इसका उल्टा यानि बेसिक होता है। जिससे वैजाइना का pH बिगड़ जाता है और UTI जैसी दिक्कतें हो जाती हैं। इसीलिए सेक्स करने के बाद जितनी जल्दी हो सके, वैजाइना को पानी से अच्छी तरह से साफ कर लेना चाहिए। लेकिन अगर आप बेबी कंसीव करने का प्लान कर रहे हैं तो ऐसा मत करें।
  •  फिजिकल रिलेशन बनाते समय अगर जलन हो रही है तो कुछ दिन दूरी बना कर रखें।
  • सेक्स करने से पहले और बाद में हाथों और नाखूनों को अच्छी तरह से पानी और साबुन से धो लेना चाहिए।
  • गंदे हाथों से प्राइवेट पार्ट को छूने से इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।वैजाइना के आसपास साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। क्योंकि इससे वैजाइना और आसपास के अच्छे बैक्टीरिया खत्म हो सकते हैं जोकि स्किन इंफेक्शन रोकने में मददगार होते हैं।
  • सेक्स के बाद या फिर नॉर्मल भी हमेशा अपने वीमेन प्राइवेट पार्ट को आगे से पीछे की ओर ही धोना चाहिए। पीछे से आगे की ओर नहीं। क्योंकि पानी के साथ गुदा के बैक्टीरिया वैजाइना तक पहुंच कर नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • अगर आपको लगता है कि प्राइवेट पार्ट में जलन या फिर अन्य किसी तरह का कोई भी इंफेक्शन है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

प्रचार गाड़ी पर हमला लोकतंत्र पर हमले का नमूना : स्मृति ईरानी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने रासबिहारी में भाजपा उम्मीदवार डॉ. सुब्रत साहा के समर्थन में सभा को संबोधित किया। इस आगे पढ़ें »

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच बढ़ी ऑक्सीमीटर और आक्सीजन कंस्ट्रेटर की मांग

95 मास्क की कीमत भी 400-450 रुपये के बीच भाप लेने वाले उपकरण की जमकर हो रही खरीदारी सिलीगुड़ीः सिलीगुड़ी शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों के आगे पढ़ें »

ऊपर