गृह मंत्री ने कहा- अनुच्छेद 370 खत्म करना लद्दाख के लिए सही कदम

shah

नई दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार नवगठित केंद्र शासित क्षेत्र लद्दाख में चौतरफा विकास करने के लिए प्रतिबद्ध है और अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करना इस दिशा में सही कदम है। शाह ने कहा कि लद्दाख के लिए 50 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनाई जाने वाली नई जल विद्युत और सौर ऊर्जा परियोजना से 7500 मेगावाट बिजली पैदा होगी और यह अगले 4 वर्षों में पूरा होगा। साथ ‌ही शाह ने वीडियो सम्मेलन के माध्यम से ऊंचाई वाले क्षेत्रों के लिए विशिष्ट विंटर ग्रेड डीजल की शुरुआत की जहां ठंड के मौसम में तापमान शून्य से नीचे चला जाता है।

जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के विकास के लिए यह सही कदम

गृह मंत्री ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में राजग सरकार लेह-लद्दाख क्षेत्र को देश के अन्य हिस्से के बराबर लाने के लिए प्रतिबद्ध है जो पिछले 70 वर्षों से उपेक्षित है।’ शाह ने कहा कि जब अनुच्छेद 370 को समाप्त करने की घोषणा की गई तो प्रधानमंत्री ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का तेजी से विकास करने के लिए यह सही कदम है।

सर्वांगीण विकास सुनिश्चित किया गया है

अनुच्छेद 370 के तहत पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा हासिल था। गृह मंत्री ने 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 को खत्म करने और पूर्ववर्ती जम्मू-कश्मीर राज्य को 2 केंद्र शासित क्षेत्रों – जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने की घोषणा की थी जो 31 अक्टूबर को अस्तित्व में आए। शाह ने कहा कि लद्दाख की स्थिति में बदलाव लाना और बजट आवंटन में बढ़ोतरी करना, क्षेत्र का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित किया गया है।

लद्दाख, लेह और कारगिल के लोगों को बराबर अधिकार होंगे

शाह ने कहा कि स्थानीय कर के प्रावधान की शुरुआत करने से लद्दाख का वित्तीय संसाधन बढ़ेगा। पिछले 5 वर्षों में मोदी सरकार के विकास कार्यों का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि लद्दाख, लेह और कारगिल के लोगों को बराबर अधिकार होंगे और देश के विकास में वे बराबर के भागीदार होंगे। उन्होंने कहा कि जल और सौर विद्युत परियोजनाएं अगले 4 वर्षों में पूरी होंगी जिनसे न केवल लद्दाख क्षेत्र में विकास होगा बल्कि रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

विंटर ग्रेड डीजल का उत्पादन इंडियन ऑयल करेगी

शाह द्वारा शुरुआत किए गए विंटर ग्रेड डीजल का उत्पादन इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन की पानीपत रिफाइनरी पहली बार कर रही है। यह डीजल शून्य से नीचे तापमान में भी नहीं जमता, जबकि इतने तापमान पर सामान्य डीजल का इस्तेमाल करना कठिन हो जाता है। इस अवसर पर केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, लद्दाख के सांसद जेमयांग सेरिंग नामग्याल तथा गृह मंत्रालय और पेट्रोलियम मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अध्यापिका के पद से बैशाखी का इस्तीफा

कोलकाता : मिली अल-अमीन कॉलेज की अध्यापिका के पद से बैशाखी बंद्योपाध्याय ने इस्तीफा दे दिया है। गुरुवार को शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को मेल आगे पढ़ें »

33वां मूर्ति देवी पुरस्कार से सम्मानित किए जाएंगे कवि डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

नयी दिल्ली : साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष और जाने माने कवि-आलोचक डॉ. विश्वनाथ प्रसाद तिवारी को प्रतिष्ठित 33वें मूर्तिदेवी पुरस्कार के लिए चुना गया आगे पढ़ें »

ऊपर