जेल मैनुअल उल्लंघन मामले पर हाईकोर्ट की टिप्पणी: सरकार कानून से चलती है, व्यक्ति विशेष से नहीं

रांची : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को कोरोना संक्रमण के खतरे से बचाने के लिए बिना किसी अन्य विकल्पों पर चर्चा और उच्च अधिकारियों से विचार-विमर्श किए बिना रिम्स के निदेशक बंगले में शिफ्ट किए जाने पर शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट ने गंभीर टिप्पणी की है। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत ने जेल मैनुअल उल्लंघन से संबंधित मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सरकार कानून से चलती है, व्यक्ति विशेष से नहीं।
कोर्ट ने कहा कि रिम्स प्रबंधन ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि लालू प्रसाद को निदेशक बंगला में शिफ्ट करने के पहले और कौन से विकल्पों पर विचार किया था और निदेशक बंगले को ही क्यों चुना गया। रिम्स निदेशक को कुछ और विकल्पों पर गौर करना चाहिए था। नियमों और प्रावधानों के अनुसार ही निर्णय लेना चाहिए था। इसकी एसओपी भी नही है। वहीं सरकार अब जेल मैनुअल को अपडेट कर रही है और एसओपी भी तैयार कर रही है। एसओपी तैयार होने के बाद उसी के अनुसार सभी प्रावधान किए जाएंगे। इस पर अदालत ने सरकार को 22 जनवरी को एसओपी पेश करने का निर्देश देते हुए सुनवाई स्थगित कर दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टीकाकरण फिर शुरू, ‘कोविन पोर्टल’ में आई तकनीकी परेशानी

स्वास्थ्य विभाग का निर्देशः ताकि वैक्सीन डोज की एक बूंद भी न हो बेकार कोलकाताः पश्चिम बंगाल के 207 स्थलों पर सोमवार को कोविड-19 टीकाकरण अभियान आगे पढ़ें »

नंदीग्राम से ममता के लड़ने की घोषणा पर विपक्ष ने बोला हमला

‘भवानीपुर में हार समझ चुकी हैं, इसलिए नंदीग्राम को चुना’ कोलकाता : अपने विधानसभा केंद्र भवानीपुर में हारेंगी, इस कारण पूर्व मिदनापुर के नंदीग्राम से भी आगे पढ़ें »

ऊपर