हेमंत ने हिल व्यू हॉस्पिटल में ट्रॉमा एंड क्रिटिकल केयर यूनिट का किया उद्घाटन

रांची : झारखंड में लोगों को बेहतर चिकित्सीय और स्वास्थ्य सुविधाएं मिले, यह सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसमें निजी अस्पतालों द्वारा दी जा रही सुविधाएं एवं सेवाएं भी काफी मायने रखती है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन रविवार को बरियातू स्थित हिल व्यू अस्पताल के नए ट्रॉमा एंड क्रिटिकल केयर यूनिट के उद्घाटन कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह अस्पताल रांची के सबसे पुराने निजी अस्पतालों में से एक है। यहां स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार होने से मरीजों को फायदा होगा। इस मौके पर उन्होंने अस्पताल के ट्रॉमा एंड क्रिटिकल केयर यूनिट में उपलब्ध चिकित्सीय उपकरणों और सुविधाओं को देखा और पूरी जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का लोगों को ज्यादा से ज्यादा फायदा मिले, इसके लिए कई और निजी अस्पतालों को इंपैनलमेंट किया जाएगा। इससे मरीजों को अपने ही राज्य में अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधाएं मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान सरकारी के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भी बेहतर सेवायें दी। इस अवसर पर मंत्री रामेश्वर उरांव, अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ नितीश प्रिया, चिकित्सक और कर्मी मौजूद थे।
कोरोना से पढ़ाई को हुए नुकसान की होगी भरपाई
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि राज्य सरकार बच्चों की समस्याओं और चिंताओं पर नजर रखी हुई है। विशेषकर झारखंड के बच्चों की शिक्षा, जो महामारी के कारण बाधित हुई है, उसकी भरपाई कैसे हो, इसके लिए राज्य सरकार काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार स्कूलों में सभी बच्चों को सुरक्षित एवं सकारात्मक वातावरण में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी जरूरी उपाय कर रही है। राज्य सरकार चरणबद्ध तरीके से विद्यालयों में पठन-पाठन प्रारंभ करने का प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री अपने कांके रोड स्थित आवासीय कार्यालय में आयोजित बाल पत्रकार कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने यूनाइटेड नेशंस चिल्ड्रेंस फंड (यूनिसेफ) के बाल पत्रकारों से मुलाकात कर उनके साथ बाल अधिकारों एवं बच्चों के मुद्दों को लेकर बातचीत की। यह कार्यक्रम बाल दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित किया गया। सीएम सोरेन ने कहा कि बाल पत्रकार शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण एवं बाल अधिकारों के संबंध में सकारात्मक संदेश का प्रचार-प्रसार कर समाज में एक उदाहरण स्थापित कर रहे हैं। उन्होंने भरोसा जताया कि निकट भविष्य में प्राथमिक विद्यालय भी फिर से शुरू होंगे। स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए शिक्षक एवं छात्र अनुपात के बीच के अंतराल को भरने की लगातार कोशिश की जा रही है। इसी क्रम में राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर 680 शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिया गया है। उन्होंने कहा कि झारखंड प्रदेश में सभी बच्चों को समान अवसर मिले और उनका विकास हो, यह राज्य सरकार की प्राथमिकता है। महामारी के दिनों में बच्चों को घरों से ही ऑनलाइन क्लास करना पड़ा है। ऑनलाइन क्लास अच्छा भी है तो इसके नकारात्मक परिणाम भी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल पत्रकारों के अनुभव और बातों को ध्यान में रखते हुए जो कमियां होंगी उसे दूर करने का प्रयास राज्य सरकार हर संभव करेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ईएम बाइपास फ्लाईओवर पर महिला का शव मिला

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मानिकतल्ला थानांतर्गत ईएम बाइपास फ्लाईओवर पर एक महिला का शव बरामद किया गया। मृतका की पहचान नहीं हो पायी है। जानकारी के आगे पढ़ें »

ऊपर