रात में अक्सर क्यों ज्यादा होती है सीने में जलन?

कोलकाताः हार्टबर्न, जिसे सरल भाषा में सीने में जलन के रूप में जाना जाता है एक प्रकार की सामान्य स्थिति है जो दिन-प्रतिदिन बहुत से लोगों को प्रभावित करती है। अधिकांश लोग इस स्थिति को दिल से संबंधित बीमारी के साथ जोड़कर देखते हैं लेकिन यह दिल के बजाय एकर प्रकार की जठरांत्र (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ) संबंधी समस्या है। यह तब होती है जब भोजन और पेट में मौजूद एसिड वापस भोजन नलिका में आ जाते हैं। यह भोजन नलिका की लाइनिंग में जलन का कारण बनता है। चूंकि यह दिल के पास होता है, इसलिए इसे सीने में जलन कहा जाता है। मसालेदार भोजन करना या तंग पैंट पहनने के बाद यह समस्या सामान्य हो जाती है।

लेकिन कुछ लोग अपनी जीवन शैली की आदतों या दवाओं के कारण दैनिक आधार पर इसका अनुभव करते हैं। जो लोग सीने में जलन का अनुभव करते हैं, वे जानते हैं कि जलन होना कितनी बुरा लगता है और अक्सर रात में ये समस्या बढ़ जाती है। आखिर क्यों ऐसा होता है कभी आपने सोचा है। तो आइए जानते हैं रात के वक्त सीने में जलन क्यों बढ़ जाती है।

रात में क्यों बढ़ जाती है सीने में जलन

जब आप सोने के लिए जाते हैं, तब अगर आपको इस समस्या का सामना करना पड़े तो उसके लिए आप गुरुत्वाकर्षण बल को जिम्मेदार ठहरा सकते हैं। जब आप लेटते हैं, तो भोजन गुरुत्वाकर्षण बल के कारण पेट से भोजन नलिका तक जाता है, जो तब होता है जब आप खड़े या बैठे नहीं होते हैं। भोजन करते और बैठते समय एसिड पेट में रहता है, जहां गुरुत्वाकर्षण खिंचाव के कारण पाचन प्रक्रिया होती है। लेकिन जैसे ही आप सोने के लिए जाते हैं तो इस बल के कारण ये एसिड आपकी भोजन नलिका में आ जाता है और आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

रात के वक्त सीने में होने वाली जलन को कैसे कम करें

वे लोग, जो किसी प्रकार की दवाईयां ले रहे हैं या फिर धूम्रपान और शराब पीने वाले व्यक्तियों को दूसरों की तुलना में रात के वक्त सीने में जलन होने की संभावना अधिक होती है। रात के वक्त सीने में होने वाली जलन से राहत पाने के लिए ये कुछ तरीके अपना सकते हैं।

रात को कम खाएं खाना

रात में जरूरत से ज्यादा भोजन न करें। अपने भोजन को सादा और हल्का रखें, ताकि पेट उसे आसानी से पचा सके।

वसायुक्त या मसालेदार भोजन न करें

अगर आप अक्सर सीने में जलन की समस्या से ग्रस्त रहते हैं तो रात में वसायुक्त और मसालेदार भोजन करने से बचें। इससे लक्षण और खराब हो जाएंगे। इसके अलावा, रात में शराब से बचें क्योंकि यह एसिड रिफलक्स को बढ़ा सकती है।

खाना खाने के तुरंत बाद बिस्तर पर न जाएं

सोने के लिए बिस्तर पर जाने से कम से कम 2 घंटे पहले आपको अपना भोजन करना चाहिए। रात का खाना खाने के तुरंत बाद सोने जाना सीने में जलन की संभावना को बढ़ा सकता है।

वजन कम करें

जो लोग अधिक वजन वाले होते हैं उन्हें सीने में जलन का खतरा अधिक होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अतिरिक्त वजन पेट पर दबाव डाल सकता है और एसिड के फैलने के कारण अन्नप्रणाली तक पहुंच सकता है। इसलिए कुछ वजन कम करने की कोशिश करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सावन में बुधवार का दिन भी होता है बेहद खास, ये 5 उपाय दिखाएंगे कमाल

कोलकाता : हिन्दू धर्म में ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सावन का माह बेहद ही खास माना जाता है। यह माह पूर्ण रूप से भगवान शिव को आगे पढ़ें »

ऊपर