सिर्फ ये एक काम, रहेगा कंट्रोल शुगर लेवल

कोलकाता: डायबिटीज और शुगर मधुमेह की बीमारी को कहा जाता है। ये बीमारी खराब जीवनशैली के कारण भी होती है इसलिए इन मरीजों को अपने खाने-पीने का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

क्या है डायबिटीज?

जब शरीर के पैन्क्रियाज में कम मात्रा में इन्सुलिन पहुंचता है, तो खून में ग्लूकोज की मात्रा भी ज्यादा हो जाती है। इन्सुलिन एक तरह का हार्मोन होता है। जो शरीर के भीतर पाचन ग्रंथि से बनता है। इसका काम भोजन को ऊर्जा में बदलना होता है। ऐसे में इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि मधुमेह के मरीज कब और क्या खा रहे हैं। इससे ब्लड शुगर का लेवल नियंत्रित रहता है। इसके लिए डॉक्टर दवाएं देते हैं और कई घरेलू नुस्खे भी हैं, जिनकी मदद से इस बीमारी को नियंत्रण में रखा जा सकता है।

डाइट के साथ करें शुगर लेवल कंट्रोल

यदि आप डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी से राहत पाना चाहते हैं तो ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करना बहुत ही आवश्यक होता है ताकि आपको  वजन लॉस, हार्ट अटैक, स्ट्रोक और किडनी डिजीज का सामना न करना पड़े। एक्सपर्ट्स के अनुसार, यदि आप ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल रखना चाहते हैं तो भरपूर मात्रा में फलों और सब्जियों के साथ-साथ हैल्दी डाइट लें, वजन नियंत्रित रखें, नियमित तरीके से शारीरिक गतिविधियां करते रहें। इसके अलावा अपना ब्लड शुगर लेवल भी चेक करवाते रहें। सारे दिन में किसी न किसी चीज का सेवन भी जरुर करें। भूखे न रहें। जूस, सोडा और शराब की जगह ज्यादा पानी पिएं।

नियमित सैर से कंट्रोल करें शुगर लेवल

यदि आप खाना खाने के बाद हल्की सैर करते हैं तो ब्लड शुगर लेवल कम हो सकता है। इससे इंसुलिन का लेवल भी सही रहता है। अगर आप दिन भर में थोड़ी-थोड़ी देर भी सैर करते हैं तो यह भी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकती है। एक्सपर्ट्स ने यह भी सुझाव दिया कि यदि आप सारा दिन बैठकर काम करते हैं तो कम से कम हर 20-30 मिनट में उठकर थोड़ा जरुर टहलें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर