जानें हेल्दी लाइफ के लिए क्यों जरूरी है शाकाहारी फूड

कोलकाता : भोजन और कपड़ों के लिए इंसान जीव-जंतुओं को मारता है, उन पर अत्याचार करता है। मांसाहारी फूड न सिर्फ जीव-जंतुओं के प्रति अमानवीयता का प्रतीक है बल्कि इससे सेहत को भी उतना फायदा नहीं पहुंचता जितना शाकाहारी भोजन से होता है। आज दुनिया भर में संवेदनशील लोगों द्वारा शाकाहारी भोजन के लिए मुहिम चलाई जा रही है। इसके अलावा कई बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है। यहां हम बता रहे हैं शाकाहारी भोजन के चार ऐसे फायदे जो आपके हेल्दी लाइफ को कई गुना बढ़ाने में मदद करेंगे।
वजन कम करने में मददगार है शाकाहारी फूड
शाकाहारी फूड से वजन कम करने में मदद मिलती है। अमेरिकन डाइटिक्स एसोसिएशन और अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने शाकाहारी भोजन को वजन कम करने के लिए अनुशंसित किया है। चूंकि शाकाहारी भोजन में कैलोरी कम रहती है, इसलिए वजन कम करने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके अलावा शाकाहारी भोजन में फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा रहती है, शरीर की क्रियाविधि को सुचारू रूप से संचालित करने में फाइबर बहुत मददगार है।
ब्लड शुगर और टाइप-2 डायबिटीज पर लगाम लगाता है
शाकाहारी भोजन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह खतरनाक टाइप-2 डायबिटीज और खून में ब्लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता है। एक रिसर्च के मुताबिक शाकाहारी लोगों में टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा मांसाहारी लोगों की तुलना में 78 प्रतिशत कम रहता है। इसके अलावा शाकाहारी भोजन से ब्लड शुगर की मात्रा नियंत्रित रहती है और यह इंसुलिन को संतुलित करता है।
दिल की सेहत को दुरुस्त रखता है शाकाहारी भोजन
एक रिसर्च में कहा गया है कि शाकाहारी भोजन से हाई ब्लड प्रेशर का जोखिम 75 प्रतिशत तक कम हो जाता है। वहीं हार्ट की बीमारी से मौत की आशंका भी 42 प्रतिशत तक कम हो जाती है। कई रिसर्च में इस बात को साबित किया गया है कि शाकाहारी भोजन दिल की सेहत को दुरुस्त रखता है।
अन्य फायदे
इसके अलावा कैंसर, ऑर्थराइटिस, किडनी, अल्जाइमर बीमारी भी शाकाहारी भोजन के कारण दूर ही रहती है। शुद्ध शाकाहारी लोग हर तरह के मांस, मछली, समुद्री जीव, डेयरी प्रोडक्ट, अंडा आदि को नहीं खाते।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मिनी भारत है भवानीपुर, यहीं से शुरू होगी दिल्ली की लड़ाई : ममता

कहा : निष्पक्ष चुनाव हुआ होता तो 30 सीट भी न जीत पाती भाजपा 6 महीने में विधायक बनना जरूरी, इसके बिना सीएम पद उचित नहीं लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर