क्या आपने सपने में देखा है ये फूल? जानें शुभ या अशुभ क्या है इस स्वप्न का संकेत

कोलकाता : रात या दिन के वक्त सोते समय नींद में हर व्यक्ति को कई तरह के सपने दिखाई देते हैं। ऐसा कभी-कभी या रोजाना भी हो सकता है है। आमतौर पर कई लोगों के साथ ऐसा होता है कि वो नींद में सपने तो देखते हैं लेकिन जागने के तुरंत बाद उन्हें सपना याद नहीं रहता। लेकिन कई बार सपना कुछ समय के लिए याद रहता है। वहीं कुछ लोग सपने देखते हैं और उसे इग्नोर कर देते हैं। लेकिन स्वप्न शास्त्र के अनुसार हर सपने का अर्थ होता है जिसका प्रभाव आपके जीवन या आने वाले समय पर पड़ता है। कई बार ऐसा होता है कि आप सपने में रंग-बिरेंगे फूल देखते हैं। फूलों को सपने में देखने का खास मतलब होता है। इस खबर में हम जानते हैं कि किस फूल को सपने में देखने से कैसा फल मिलता है।
गुलाब- अगर आपने सपने में गुलाब का फूल देखा है तो यह इस बार का संकेत देता है कि आपको जीवन में जल्द ही प्यार और सम्मान मिलेगा। साथ ही प्रेम या वैवाहिक जीवन में मधुरता आएगी। अगर आपने सपने में लाल गुलाब देखा है तो इसका मतलब है कि आपके जीवन में प्यार का आगमन होने वाला है।

कमल- सपने में कमल का फूल देखना शुभ माना जाता है। स्वप्न शास्त्र के अनुसार जिस व्यक्ति को सपने में कमल का फूल दिखता है, उसके लिए यह शुभ संकेत है। यह भविष्य में धन लाभ की ओर इशारा करता है। इसका अर्थ होता है कि आपको कहीं से धन की प्राप्ति होने वाली है।

चमेली– सपने में चमेली का फूल देखने का मतलब होता है कि भविष्य में आपकी किस्मत चमकने वाली है। चमेली के फूल का सपना जीवन में बदलाव और खुशियों की ओर इशारा करता है।

धतूरा- धतूरे का फूल भगवान शिव को अत्यंत प्रिय होता है। इस फूल को सपने में देखने का मतलब है कि आपको पापों से मुक्ति मिलने वाली है और साथ ही अंत:करण शुद्ध होने वाला है। धतूरे का फूल धन प्राप्ति को भी इशारा करता है
सफेद फूल- सपने में कोई भी सफेद रंग का फूल देखना भी शुभ माना जाता है। इसका संकेत है कि आपके जीवन में चल रही परेशानियां जल्द ही दूर होने वाली है और जीवन में सुख-समृद्धि का आगमन होने वाला है। अगर आप सपने में किसी सफेद फूल को तोड़ते हुए दिखे तो इसका मतलब होता है कि जीवन में कोई नई शुरुआत होने वाली है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इस दिन हनुमान जी की आराधना करने से पाए सफलता, शांति, सुख, शक्ति और साहस

कोलकाता: केसरी और अंजना के पुत्र, हनुमान का जन्म मंगलवार को चैत्र के हिंदू महीने के दौरान पूर्णिमा के दिन हुआ था। भगवान हनुमान को आगे पढ़ें »

सर्दी के एहसास के लिए कुछ दिनों का और करना होगा इंतजार

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नवम्बर महीना समाप्त होने वाला है, लेकिन कोलकाता में अब भी गर्मी परेशान कर रही है। अमूमन दिसम्बर महीने से ही कोलकाता आगे पढ़ें »

ऊपर