क्या आपको सिर दर्द है?

सिर दर्द के कई प्रकार होते हैं, लेकिन सबसे आम है माइग्रेन इसकी वजह से सिर दर्द होना स्वाभाविक है माइग्रेन एक तो न्यूरोलॉजिकल स्थिति है जो कई लक्षणों का कारण बन सकती है। यह अक्सर तीव्र, दुर्बल सिर दर्द की विशेषताएं हैं। माइग्रेन बचपन से ही शुरू हो सकता है और बड़े होने तक रहता है। महिलाओं में सबसे अधिक माइग्रेन की समस्या पाई जाती है। माइग्रेन के लक्षण है अधिक भोजन खाने की इच्छा, डिप्रेशन, थकान या कम ऊर्जा, लगातार उबासी लेना, चिड़चिड़ापन, गर्दन में अकड़न आदि है। कभी-कभी स्पष्ट रूप से बोलने में भी कठिनाई आती है, इसके साथ-साथ चेहरे हाथों पैरों में झुनझुनी महसूस होती है। कभी-कभी महसूस होता है कि आपकी दृष्टि खो हो रही है। माइग्रेन का अगला चरण सबसे तीव्र या गंभीर होता है। यह चरण कई घंटों से दिनों तक रहता है। माइग्रेन के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं। देखा जाए तो सिर दर्द अलग अलग तरीके के होते हैं जैसे

तनाव सिर दर्द : यह दर्द सिर के दोनों किनारों पर होता है और यह ताना भूखे रहने और आंखों में तनाव आने की वजह से होता है।
साइनस सिर दर्द : यह तब होता है कि जब आप बीमार होते हैं
क्लस्टर सिरदर्द : यह दर्द एक ही समय में होता है कभी-कभी महीनों के लिए कुछ दिनों के लिए भी होता है
द वेलनेस क्लिनीक में लेटेस्ट टेक्नॉलॉजी ऑस्ट्रो पैथी के माध्यम से आपका यह सारे दर्द ठीक हो सकते हैं। हम आपके माइग्रेन ट्रिगर के प्रभाव को कम करने के लिए आपका माइग्रेन उपचार गर्दन और कंधे की मांसपेशियों में तनाव होने से राहत देते हैं। यह इलाज के बाद आपके सिर दर्द अंदर नसों की संवेदनशीलता को प्रभावित करकं और माइग्रेन के दर्द से आपको मुक्ति दिलाती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले सीएम ने लगायी फटकार, फिर किया दुलार

पुरुलिया : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जिले के हुटमुड़ा मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। उनके संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आगे पढ़ें »

धुपगुड़ी में दर्दनाक हादसा : डम्पर के नीचे दबकर 14 लोगों की मौत

सन्मार्ग संवाददाता, धुपगुड़ी/कोलकाता : मंगलवार की रात धुपगुड़ी में हुए दर्दनाक हादसे में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी। पत्थर ढोने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर